• Sanskriti IAS - अखिल मूर्ति के निर्देशन में

जलवायु परिवर्तन का एल नीनो-ला नीना मौसम पैटर्न पर प्रभाव 

  • 24th November, 2022

(प्रारंभिक परीक्षा के लिए - एल नीनो, ला नीना)
(मुख्य परीक्षा के लिए, सामान्य अध्ययन प्रश्नपत्र:1 - महत्त्वपूर्ण भू-भौतिकीय घटनाएँ)

संदर्भ 

  • एल नीनो सदर्न ऑसिलेशन (ENSO) पर नेचर कम्युनिकेशंस जर्नल में प्रकाशित एक नए शोध में कहा गया है, कि जलवायु परिवर्तन एल नीनो-ला नीना मौसम पैटर्न को लगभग 2030(+/- 6 वर्ष) तक प्रभावित करेगा, इससे वैश्विक जलवायु व्यवधानों का सामना करना पड़ सकता है।

महत्वपूर्ण तथ्य 

  • अल नीनो-दक्षिणी दोलन(ENSO), एक  वैश्विक घटना है , जो  भारतीय उपमहाद्वीप सहित दुनिया भर के कई क्षेत्रों के तापमान और वर्षा को प्रभावित करती है, इसमें वातावरण और महासागर के बीच परस्पर जटिल क्रियाएं शामिल होती हैं। 
    • यह तीन चरणों में से एक में हो सकता है - अल नीनो, ला नीना या तटस्थ।
  • अध्ययन ने ENSO पर 1950 से 70 वर्षों के डेटा का विश्लेषण किया है, और इसे उपलब्ध सबसे उन्नत जलवायु मॉडल के साथ जोड़ा है।
  • ग्लोबल वार्मिंग के प्रभाव से ENSO घटनाओं के विशिष्ट आयाम या आवृत्ति में परिवर्तन हो सकता है। यदि वैश्विक तापमान में अनियंत्रित वृद्धि जारी रही, तो प्रशांत क्षेत्र की जलवायु में महत्वपूर्ण परिवर्तन होने की संभावना है।
  • चूंकि प्रशांत महासागर, पृथ्वी के लगभग एक तिहाई हिस्से को कवर करता है, इसके तापमान में परिवर्तन और बाद में हवा के पैटर्न में परिवर्तन,  वैश्विक मौसम के पैटर्न को बाधित करता है।
  • शोध के अनुसार, जलवायु परिवर्तन के कारण पूर्वी प्रशांत महासागर के गर्म होने से अल नीनो की आवृत्ति में वृद्धि होगी , ऐसा होने पर पश्चिमी प्रशांत क्षेत्र में बारिश की मात्रा में कमी आएगी, जिसके कारण ऑस्ट्रेलिया में सूखे की आवृत्ति में वृद्धि होने की संभावना है।
  • इससे पूर्वी प्रशांत क्षेत्र जो दक्षिणी मेक्सिको से उत्तरी पेरू तक मध्य अमेरिका के प्रशांत तट तक फैला है, में बारिश की मात्रा में वृद्धि होने की भी संभावना है, जो इस क्षेत्र में बाढ़ के खतरे में वृद्धि करेगा। 
  • मजबूत एल नीनो घटनाओं के बाद अक्सर मजबूत और लंबे समय तक चलने वाला ला नीना होता है, इसका अर्थ होगा, पूर्वी प्रशांत महासागर का तापमान कम होना, पश्चिमी प्रशांत क्षेत्र में बारिश की मात्रा में वृद्धि के कारण भारी बाढ़ का सामना करना पड़ेगा।

एल नीनो

  • 'एल नीनो' को ENSO के गर्म चरण के रूप में भी जाना जाता है। 
  • 'एल नीनो' एक स्पैनिश शब्द है जिसका अर्थ है ' छोटा बच्चा', यह शिशु क्राइस्ट को संदर्भित करता है, क्योंकि यह धारा क्रिसमस के दौरान बहने लगती है।
  • एल नीनो चरण के दौरान, मध्य और पूर्वी उष्णकटिबंधीय प्रशांत महासागर का तापमान काफी अधिक हो जाता है, जिसके कारण समुद्र के ऊपर वायुमंडलीय दाब कम हो जाता है। 
    • यह इस क्षेत्र में बादल निर्माण और बारिश एवं मौसम के पैटर्न में बदलाव का एक प्रमुख कारण बनता है, जिसके कारण शुष्क परिस्थितियों का निर्माण होता है।
  • एल नीनो के दौरान, भूमध्यरेखीय प्रशांत क्षेत्र में सतह का तापमान बढ़ता है, और व्यापारिक हवाएं, जो भूमध्य रेखा के पास चलती हैं - कमजोर हो जाती हैं।
  • पूर्वी व्यापारिक हवाएं जो आमतौर पर अमेरिका से एशिया की ओर बहती हैं, एल नीनो के कारण अपनी दिशा बदलकर पछुआ हवाओं में बदल जाती हैं, जिससे पश्चिमी प्रशांत से गर्म पानी अमेरिका की ओर आ जाता है।
  • एल नीनो अपवेलिंग की घटना को बाधित करता है, जिसमें पोषक तत्वों से भरपूर पानी सतह की ओर बढ़ता है। 
  • यह फाइटोप्लांकटन को भी प्रभावित करता है जो मछलीयों पर प्रतिकूल प्रभाव डालता है, जो अंततः संपूर्ण खाद्य श्रृंखला को प्रभावित करता है और पारिस्थितिक तंत्रों को बाधित करता है।

प्रभाव

  • एल नीनो उत्तरी अमेरिका और कनाडा में शुष्क, सर्दी का कारण बनता है। 
  • यह अमेरिका के खाड़ी तट और दक्षिण-पूर्वी अमेरिका में भारी बारिश के कारण बाढ़ के खतरे को बढ़ाता है।
  • पूर्वी अफ्रीका के कुछ हिस्सों (केन्या, युगांडा) में भी आमतौर पर सामान्य से अधिक वर्षा होती है।
  • इसके कारण इंडोनेशिया और ऑस्ट्रेलिया में सूखे के खतरे में वृद्धि होती है।
  • अल नीनो के कारण अटलांटिक महासागर में तूफान की घटनाओं में कमी आती है।

ला नीना

  • ला नीना, एल नीनो के विपरीत है तथा ENSO के ठंडे चरण का प्रतिनिधित्व करता है।
  • स्पेनिश भाषा में ला नीना का अर्थ होता है छोटी लड़की।
  • ला नीना के दौरान पूर्व और मध्य प्रशांत महासागर में समुद्र की सतह का तापमान औसत से कम रहता है।
  • इसके कारण पूर्व और मध्य प्रशांत महासागरीय क्षेत्र में एक उच्च दाब की स्थिति उत्पन्न होती है, जिसके कारण इस क्षेत्र में वर्षा कम होती है।
  • ला नीना के कारण समुद्री सतह का तापमान अत्यंत कम हो जाने से दुनियाभर का तापमान औसत से काफी कम हो जाता है।
  • ला नीना से प्राय: उत्तर-पश्चिम में मौसम ठंडा और दक्षिण-पूर्व में मौसम गर्म होता है।
  • भारत में इस दौरान अत्यधिक ठंड पड़ती है।

प्रभाव

  • इससे दक्षिणी अमेरिका में शुष्क स्थिति और कनाडा में भारी वर्षा होती है।
  • ला नीना अपनी गति के साथ उष्णकटिबंधीय चक्रवातों की दिशा को बदल सकती है, साथ ही, यूरोप में अल नीनो से तूफानों की संख्या में कमी आती है 
  • उत्तरी ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण-पूर्व एशिया में अत्यधिक आर्द्रता वाली स्थिति उत्पन्न होती है। 
  • इससे इंडोनेशिया तथा आसपास के क्षेत्रों में अत्यधिक वर्षा हो सकती है और बाढ़ आने की संभावना होती है। वहीं इक्वाडोर और पेरू सूखाग्रस्त हो जाते हैं।
  • ला नीना के कारण ऑस्ट्रेलिया के अधिकांश हिस्सों में औसत से अधिक वर्षा होने के कारण भारी बाढ़ का सामना करना पड़ता है।
    • पिछले दो वर्षों में लगातार दो ला नीना घटनाओं के कारण ऑस्ट्रेलिया में तीव्र बाढ़ आई, जिसके परिणामस्वरूप महत्वपूर्ण क्षति हुई है।

enso

भारत पर प्रभाव

  • भारत में अल नीनो, कमजोर वर्षा और अधिक गर्मी का कारण बनता है, जबकि ला नीना, मानसून के दौरान पूरे दक्षिण एशिया में, विशेष रूप से भारत के उत्तर-पश्चिम और बांग्लादेश में वर्षा की मात्रा में वृद्धि कर देता है।
  • ला नीना के दौरान सर्दियों के दौरान, उत्तरी भारत के तापमान में अत्यधिक कमी आ जाती है। 
  • ला नीना उत्तरपूर्वी मानसून के दूसरे भाग के दौरान बारिश को बढ़ावा देता है, जो अक्टूबर से दिसंबर तक चलता है।
  • वर्तमान में, भारत, बाकी दुनिया की तरह, एक विस्तारित 'ट्रिपल डिप' ला नीना का सामना कर रहा है।
    • यही कारण है कि भारत में सितंबर में अधिशेष बारिश हुई।
    • 1950 के बाद से यह केवल तीसरी बार है, जब ट्रिपल डिप ला नीना को देखा गया है।

आगे की राह

  • अल नीनो और ला नीना से जुड़े मौसम के बड़े निहितार्थ हैं, यह मानव स्वास्थ्य, खाद्य उत्पादन, ऊर्जा और जल आपूर्ति और विश्व भर की अर्थव्यवस्थाओं को प्रभावित करते है।
  • शोध के अनुसार, आस्ट्रेलियाई लोगों को, विशेष रूप से, अधिक बाढ़ और सूखे के लिए तैयार रहना चाहिए, क्योंकि जलवायु परिवर्तन अल नीनो-दक्षिणी दोलन के प्राकृतिक मौसम के पैटर्न को बाधित करता है।
  • ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन परिदृश्यों के तहत 21 वीं सदी के अंत तक चरम अल नीनो और ला नीना की घटनाओं की आवृत्ति हर 20 साल में लगभग एक से बढ़कर हर 10 साल में एक हो सकती  है।
  • शोध के निष्कर्षों को जलवायु परिवर्तन के अनुकूल बनाने के लिए नीतियों और रणनीतियों में शामिल किया जाना चाहिए। 
CONNECT WITH US!

X