• Sanskriti IAS - अखिल मूर्ति के निर्देशन में

शॉर्ट न्यूज़

शॉर्ट न्यूज़: 13 सितम्बर, 2022


आयुर्वेद दिवस

अवैध ऋण ऐप

यूरेशियन H5N1


आयुर्वेद दिवस

चर्चा में क्यों

हाल ही में, अखिल भारतीय आयुर्वेद संस्थान (AIIA) ने आयुर्वेद दिवस के अवसर पर विभिन्न कार्यक्रमों के आयोजन की घोषणा की।

प्रमुख बिंदु

  • आयुष मंत्रालय ने अखिल भारतीय आयुर्वेद संस्थान को इस वर्ष आयुर्वेद दिवस के लिये नोडल एजेंसी नियुक्त किया है। 
  • ‘हर दिन हर घर आयुर्वेद’ को इस वर्ष के आयुर्वेद दिवस की थीम के रूप में चयनित किया गया है।
  • अखिल भारतीय आयुर्वेद संस्थान ने छह सप्ताह तक चलने वाले कार्यक्रमों की घोषणा की है। इनका आयोजन 12 सितंबर से 23 अक्तूबर के बीच किया जा रहा है।

आयुर्वेद दिवस

  • आयुष मंत्रालय प्रत्येक वर्ष धन्वंतरी जयंती अर्थात धनतेरस पर आयुर्वेद दिवस मनाता है। इस वर्ष यह 23 अक्तूबर को मनाया जा रहा है। प्राचीन साहित्य में धन्वंतरी को आयुर्वेद विशेषज्ञ माना गया है ।
  • इस दिवस के आयोजन का प्रमुख उद्देश्य भारतीय नागरिकों को आयुर्वेद के प्रादुर्भाव और महत्व से अवगत करना है। साथ ही, ‘स्वास्थ्य भारत से स्वास्थ्य विश्व’ की संकल्पना को साकार करना है।
  • इस कार्यक्रम में 3J अर्थात ‘जन संदेश, जन भागीदारी और जन आंदोलन’ के लक्ष्य के साथ विभिन्न मंत्रालय भागीदारी कर रहे हैं।

अवैध ऋण ऐप

चर्चा में क्यों

हाल ही में, नियमित बैंकिग चैनलों से बाहर कार्यरत ‘अवैध ऋण ऐप्स’ से संबंधित विभिन्न विषयों पर बैठक का आयोजन किया गया। इसकी अध्यक्षता केंद्रीय वित्त एवं कॉर्पोरेट कार्य मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण ने की।

संबंधित चिंताएँ 

  • इस बैठक में वित्त मंत्री ने अवैध ऋण ऐप्स (Illegal Loan Apps) से संबंधित विभिन्न चिंताओं को व्यक्त किया। इसमें शामिल हैं- 
    • कमज़ोर और निम्न आय के वर्ग के लोगों को अत्यधिक उच्च ब्याज दरें
    • प्रोसेसिंग/छिपे हुए शुल्कों पर ऋण/माइक्रो क्रेडिट की पेशकश 
    • ब्लैकमेंलिंग एवं आपराधिक धमकी
    • मनी लोड्रिंग एवं कर चोरी
    • निजी डाटा का उल्लंघन
    • अनियमित भुगतान एग्रीग्रेटर्स 
    • शेल कम्पनियों, निष्क्रिय गैर-बैकिंग वित्तीय कम्पनियों आदि का दुरुपयोग

बैठक के निर्णय

  • रिज़र्व बैंक सभी वैध ऐप्स की एक ‘श्वेत सूची’ तैयार करेगा। इलैक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय यह सुनिश्चित करेगा की ऐप स्टोर्स पर केवल ऐसे ‘श्वेत सूची’ वाले ऐप ही होस्ट किये जाएं।
  • भारतीय रिजर्व बैंक मनी लॉन्ड्रिंग में प्रयोग होने वाले वर्ण संकर/किराये के खातों की निगरानी करेगा। साथ ही, निष्क्रिय गैर-बैंकिंग वित्तीय कम्पनियों (NBFCs) की समीक्षा करेगा/रद्द करेगा ताकि दुरुपयोग न हो सके।
  • भारतीय रिजर्व बैंक यह सुनिश्चित करेगा कि एक समय सीमा के अंदर भुगतान एग्रीग्रेटरों का पंजीकरण हो। उसके बाद किसी भी गैर-पंजीकृत भुगतान एग्रीग्रेटर को कार्य करने की अनुमति न हो।
  • कॉरपोरेट कार्य मंत्रालय शेल कम्पनियों को चिन्हित करेगा और दुरुपयोग रोकने के लिये उनका पंजीकरण समाप्त करेगा।
  • ग्राहकों, बैंक कर्मचारियों और कानून प्रवर्तन एजेंसियों एवं अन्य हितधारकों के लिये साइबर सुरक्षा व जागरूकता से संबंधित उपाय किये जाएंगे।

यूरेशियन H5N1

चर्चा में क्यों

हाल ही में, फ्लोरिडा में मृत पाई गई बॉटलनोज़ डॉल्फ़िन के परीक्षण में बर्ड फ्लू के एक अत्यधिक विषैले स्ट्रेन की उपस्थिति का पता चला है। बर्ड फ्लू के इस स्ट्रेन का नाम यूरेशियन H5N1 है। बॉटलनोज़ डॉल्फ़िन एक समुद्री स्तनधारी है। 

प्रथम प्रलेखित (Documented) मामला 

  • इससे पूर्व स्वीडन में एक पोरपोइज़ में उसी प्रकार का एवियन फ्लू पाया गया था।
  • गौरतलब है कि समुद्री स्तनधारियों के समूह सीतासियों (Cetaceans) में पहली बार एवियन फ्लू (बर्ड फ्लू) के लक्षण पाए गए हैं। 
  • सीतासियों (Cetaceans) में डॉल्फ़िन, पोरपोइज़ (Porpoise) और व्हेल शामिल हैं।
  • दो अलग-अलग महाद्वीपों में दो अलग-अलग प्रजातियों में इसकी खोज से अन्य मामलों के भी सामने आने की संभावना है। 

प्रमुख बिंदु

  • विषाणु का यह स्ट्रेन उत्तरी अमेरिका और यूरोपीय पक्षियों के बीच व्यापक रूप से फैल चुका है। पक्षियों के अलावा इस विषाणु से लोमड़ी, बनविलाव (Bobcats), स्कंक्स (Skunks) और सील्स भी प्रभावित हो चुके हैं।
  • मनुष्यों के लिये इसका जोखिम कम है। हालाँकि, नई प्रजातियों में विषाणु का प्रसार अन्य वन्यजीवों के लिये संभावित जोखिम उत्पन्न कर सकता है। यह विषाणु स्तनधारी वाहकों में उत्परिवर्तन और अनुकूलन कर सकता है।

केटासियन (Cetaceans)

  • समुद्री पारिस्थितिकी तंत्र की गतिशीलता की दृष्टि से सीतासियों को समुद्री स्वास्थ्य के प्रहरी के रूप में जाना जाता है।
  • ये सामाजिक होते हैं और समूहों में रहते हैं। ये विश्व के सभी महासागरों में पाए जाते हैं।

CONNECT WITH US!

X