• Sanskriti IAS - अखिल मूर्ति के निर्देशन में

शॉर्ट न्यूज़

शॉर्ट न्यूज़: 30 जून, 2022


रामागुंडम फ्लोटिंग सोलर प्रोजेक्ट

कैलिनिनग्राद बंदरगाह


रामागुंडम फ्लोटिंग सोलर प्रोजेक्ट

चर्चा में क्यों

हाल ही में, राष्ट्रीय ताप विद्युत निगम (NTPC) ने रामागुंडम (तेलंगाना) फ्लोटिंग सोलर प्रोजेक्ट के अंतिम भाग की 20 मेगावाट क्षमता का वाणिज्यिक संचालन शुरू किये जाने की घोषणा की है। इसी के साथ ही कुल 100 मेगावाट क्षमता की यह परियोजना अब पूर्ण रूप से चालू हो गई है। यह भारत की सबसे बड़ी तैरती हुई सौर ऊर्जा परियोजना है।

प्रमुख बिंदु

  • यह परियोजना मेसर्स भेल के माध्यम से इंजीनियरिंग, प्रोक्योरमेंट एंड कंस्ट्रक्शन (EPC) अनुबंध के रूप में 423 करोड़ रुपये की लागत से तैयार की गई है, जो जलाशय के 500 एकड़ क्षेत्र में फैली हुई है।
  • इस परियोजना के संचालन के साथ ही दक्षिण भारत में फ्लोटिंग सौर क्षमता का कुल वाणिज्यिक संचालन बढ़कर 217 मेगावाट हो गया है।
  • इस परियोजना के अतिरिक्त दक्षिण भारत में कायमकुलम (केरल) में 92 मेगावाट और सिम्हाद्री (आंध्र प्रदेश) में 25 मेगावाट के फ्लोटिंग सोलर प्रोजेक्ट का वाणिज्यिक संचालन किया जा रहा है।

महत्त्व

  • यह परियोजना इस मायने में अनूठी है कि इन्वर्टर, ट्रांसफॉर्मर, एच.टी. पैनल और एस.सी.ए.डी.ए. (पर्यवेक्षी नियंत्रण और डाटा अधिग्रहण) सहित सभी विद्युत उपकरण फ्लोटिंग फेरो सीमेंट प्लेटफॉर्म पर हैं।
  • यह परियोजना उन्नत तकनीक के साथ-साथ पर्यावरण के अनुकूल विशेषताओं से भी संपन्न है। पर्यावरण के दृष्टिकोण से सबसे स्पष्ट लाभ यह है कि इसमें न्यूनतम भूमि की आवश्यकता होती है। इसके अलावा, तैरते हुए सौर पैनलों की उपस्थिति के कारण जल निकायों से वाष्पीकरण की दर भी कम हो जाती है, जो जल संरक्षण में सहायक होता है।
  • इस परियोजना के माध्यम से प्रति वर्ष लगभग 32.5 लाख क्यूबिक मीटर पानी के वाष्पीकरण से बचा जा सकता है। साथ ही, सौर मॉड्यूल के नीचे का जल निकाय उनके परिवेश के तापमान को बनाए रखने में मदद करता है, जिससे उनकी दक्षता और उत्पादन में सुधार होता है। 
  • इसके अतिरिक्त, इस परियोजना से प्रति वर्ष 1,65,000 टन कोयले की खपत से बचा जा सकता है और प्रति वर्ष 2,10,000 टन कार्बन डाईऑक्साइड उत्सर्जन को भी कम किया जा सकता है।

कैलिनिनग्राद बंदरगाह

 चर्चा में क्यों

हाल ही में, लिथुआनिया ने यूरोपीय संघ (EU) के प्रतिबंधों के अधीन रूसी माल को अपने क्षेत्र से रूस अधिकृत कैलिनिनग्राद बंदरगाह तक ले जाने पर प्रतिबंध लगा दिया है।

प्रमुख बिंदु
kaliningrad-port

  • कैलिनिनग्राद रूस का एक बाह्य क्षेत्र (Exclave) है, जो देश की मुख्य भूमि से लगभग 300 किमी. दूर है। चूंकि यह रूस के साथ सीमा साझा नहीं करता है, इसलिये यह माल की आपूर्ति के लिये यूरोपीय संघ पर निर्भर है।
  • यह बंदरगाह बाल्टिक सागर के किनारे यूरोपीय संघ और नाटो के सदस्य देशों लिथुआनिया एवं पोलैंड के मध्य स्थित है। यह रूस का एकमात्र बर्फ मुक्त यूरोपीय बंदरगाह है।
  • रूस ने अपनी कम दूरी की इस्कंदर मिसाइलों (Iskander Missiles) को कैलिनिनग्राद में तैनात किया है, जिसे अमेरिका एवं यूरोपीय संघ के लिये एक खतरा माना जा रहा है। 
  • विदित है कि द्वितीय विश्व युद्ध के पश्चात् वर्ष 1945 में अमेरिका, ब्रिटेन एवं पूर्व सोवियत संघ द्वारा पॉट्सडैम समझौते पर हस्ताक्षर किये गए थे, जिसके तहत यह बंदरगाह रूस को सौंप दिया गया था। 

CONNECT WITH US!

X