IMPORTANT TERMINOLOGY

  • Home
  • IMPORTANT TERMINOLOGY

1. कृषि विविधीकरण (Agricultural diversification)

23-Dec-2020

एक ऐसी स्थिति जब पारंपरिक कृषि उत्पादों को प्रौद्योगिकी, उपभोक्ता मांग, व्यापार, नीतिगत परिवर्तन, परिवहन, सिंचाई तथा अन्य अवसंरचनात्मक परिवर्तनों की मदद से उच्च गुणवत्तायुक्त उत्पादों में बदल दिया जाता है, ताकि कृषि को एक आधुनिक एवं गतिशील वाणिज्यिक क्षेत्र बनाया जा सके।

2. वेबीसोड (Webisode)

22-Dec-2020

यह ‘वेब टेलीविज़न’ के घटक के रूप में वितरित (Distributed) किया जाने वाला वेब एपिसोड है। यह ऑनलाइन देखने के लिये उपलब्ध होता है। यह प्रारूप ऑनलाइन स्ट्रीमिंग के साथ-साथ डाउनलोड के लिये भी उपलब्ध होता है, चाहे इसे टेलीविज़न पर प्रसारित किया गया हो अथवा नहीं। वेबिसोड की प्रकृति प्राय: संक्षिप्त, स्क्रिप्टेड और प्रयोगात्मक होती है। प्रस्तुतीकरण में किफ़ायती और वितरण में व्यापक रूप से सक्षम होने के कारण वेबिसोड का उपयोग सामान्यत: प्रचार, विज्ञापन और शॉर्ट्स संग्रह आदि के रूप में किया जाता है।

3. हरित भवन (Green Building)

21-Dec-2020

ऐसे भवन, जिनके डिज़ाइन या निर्माण द्वारा न सिर्फ बिजली एवं पानी की बचत होती है, बल्कि जलवायु संबंधी प्रतिकूल प्रभाव भी कम होते हैं, हरित भवन कहलाते हैं। हरित भवन प्राकृतिक संसाधनों के संरक्षण में भी सहायक तथा बेहतर मानव स्वास्थ्य के लिये अनुकूल होते हैं।

4. वैक्सीन हेज़ीटेंसी (Vaccine Hesitancy)

19-Dec-2020

भ्रामक जानकारी, दुष्प्रचार अथवा फ़ेक न्यूज़ की वजह से वैक्सीन उपलब्धता के बावजूद लोगों द्वारा इसे अस्वीकृत करने अथवा स्वीकृत करने में होने वाली देरी या झिझक को 'वैक्सीन हेज़ीटेंसी' कहा जाता है। जागरूकता एवं स्वास्थ्य साक्षरता के द्वारा वैक्सीन हेज़ीटेंसी को दूर किया जा सकता है।

5. उत्तर-आधुनिकतावाद (Postmodernism)

18-Dec-2020

यह 20वीं सदी के उत्तरार्ध में शुरू हुआ एक वैचारिक आंदोलन है। इस विचारधारा के समर्थक 17वीं से 19वीं सदी के मध्य विकसित पश्चिमी मान्यताओं को चुनौती देते हैं। उत्तर-आधुनिकतावादी विचारधारा व्यापक तौर पर संशयवाद, सापेक्षतावाद और सामान्य संदेह पर आधारित है। यह सिद्धांत निम्नलिखित मान्यताओं पर आधारित है- (1) संसार में कुछ भी निश्चित नहीं है, (2) संपूर्ण ज्ञान एकपक्षीय और आंशिक है, (3) ज्ञान के दावे तटस्थ नहीं हैं, (4) समाज और राजनीति के संबंध में कुछ भी अंतिम सत्य नहीं है।

6. क्रोनी कैपिटलिज़्म (Crony Capitalism)

17-Dec-2020

एक ऐसी आर्थिक प्रणाली, जिसमें व्यापारी वर्ग और राजनीतिक वर्ग के बीच साँठगाँठ के माध्यम से चुनिंदा व्यक्तियों तथा व्यवसायों को फायदा पहुँचाया जाता है। इसके अंतर्गत सरकार ऐसी नीतियाँ बनाती है जिनसे एक वर्ग-विशेष को लाभ पहुँचता है। साथ ही, लाभ कमाने वाला वर्ग भी लाभ का कुछ हिस्सा सरकार को हस्तांतरित करता है। इसके तहत परमिट, सरकारी अनुदान, कर में छूट या अन्य तरीकों को अपनाया जाता है।

7. अधीनस्थ विधान (Subordinate Legislation)

16-Dec-2020

कभी-कभी विधायिका किसी विधि में नीति निर्धारित करते समय एक संरचना बना देती है। इसके अतिरिक्त, शेष कार्य जैसे- नियम, उप-नियम, विनियम आदि के निर्माण की शक्ति कार्यपालिका को दे देती है। यानी, जब कार्यपालिका विधायिका के अधीनस्थ या प्रत्यायोजिती के रूप में विधि निर्माण करती है तो उसे प्रत्यायोजित या अधीनस्थ विधान कहते हैं।

8. सांस्कृतिक पूंजी (Cultural capital)

15-Dec-2020

सांस्कृतिक पूंजी, ज्ञान, व्यवहार व कौशल का ऐसा संचय है जिसके द्वारा कोई व्यक्ति सांस्कृतिक सामर्थ्य एवं सामाजिक प्रस्थिति को हासिल कर सकता है। इस संकल्पना के प्रतिपादक पियरे बॉर्डियू के अनुसार, ज्ञान के संचयन का प्रयोग वर्ग विभेद को मज़बूत बनाने के लिये किया जाता है, क्योंकि विभिन्न सामाजिक धारणाएँ जैसे- राष्ट्रीयता, धर्म, नस्ल और लिंग आदि प्रायः निर्धारित करते हैं कि ज्ञान के विभिन्न रूपों तक किसकी पहुँच होगी। सांस्कृतिक पूंजी के तीन रूप होते हैं- मूर्त, वस्तुकृत और संस्थागत।

9. डिजिटल अधिनायकवाद (Digital Authoritarianism)

14-Dec-2020

डिजिटल अधिनायकवाद के तहत राज्य के नेतृत्व में बिग डाटा (वृहत मात्रा में डाटा का संग्रह) की सहायता से बड़े पैमाने पर नागरिकों, कम्पनियों तथा अन्य संस्थानों की निगरानी कर उनके व्यवहार को प्रभावित करके राजनीतिक लक्ष्यों को प्राप्त करने का प्रयास किया जाता है। इसका मुख्य उद्देश्य सूक्ष्म, स्वचालित तथा अदृशय तरीके से शासन पर राज्य की नियंत्रण क्षमता को बढ़ाना है।

10. वी-शेप रिकवरी (V-Shape Recovery)

12-Dec-2020

‘वी-शेप रिकवरी’ किसी देश की आर्थिक स्थिति के प्रदर्शन हेतु प्रयुक्त किया जाने वाला पद है। यह उस स्थिति को इंगित करता है जब अर्थव्यवस्था में तेज़ी से गिरावट या मांग में कमी होती है, तत्पश्चात लगभग उसी गति से त्वरित सुधार या मांग में भी तीव्र वृद्धि दिखाई पड़ती है।



« »
  • SUN
  • MON
  • TUE
  • WED
  • THU
  • FRI
  • SAT
CONNECT WITH US!

X