• Sanskriti IAS - अखिल मूर्ति के निर्देशन में

Sanskriti Mains Mission: GS Paper - 3

बाह्य अंतरिक्ष में धारणीयता का क्या अर्थ है? बाह्य अंतरिक्ष में विद्यमान चुनौतियों की चर्चा करते हुए भारत द्वारा इसके समाधान के लिये किये गए प्रमुख प्रयासों का उल्लेख कीजिये।

20-Sep-2022 | GS Paper - 3

Solutions:

उत्तर प्रारूप-

भूमिका

बाह्य अंतरिक्ष में धारणीयता के प्रमुख बिंदुओं में पृथ्वी के कक्षीय वातावरण में कृत्रिम उपग्रहों व मिशनों की सीमित संख्या, अंतरिक्ष में टक्कर रहित एवं बाधा रहित परिचालन की व्यवस्था, अंतरिक्ष मलबे की समस्या का समाधान आदि की चर्चा करें।

भूमिका

बाह्य अंतरिक्ष धारणीयता के समक्ष विद्यमान प्रमुख चुनौतियों के अंतर्गत पृथ्वी के कक्षीय वातावरण में कृत्रिम उपग्रहों व मिशनों की संख्या में निरंतर वृद्धि, स्लॉट आवंटन की समस्या, अंतरिक्ष मलबा, सौर एवं चुंबकीय तूफान आदि की चर्चा करें।

निष्कर्ष

भारत की बाह्य अंतरिक्ष धारणीयता की स्थिति की चर्चा करते हुए संक्षिप्त निष्कर्ष लिखें।

« »
  • SUN
  • MON
  • TUE
  • WED
  • THU
  • FRI
  • SAT
CONNECT WITH US!

X