New
Sanskriti Mains Mission: GS Paper - 3

पक्षियों के पर्यावरण एवं पारिस्थितिक महत्व तथा इनसे होने वाले हानि एवं लाभों की व्याख्या कीजिए। (शब्द 250)

01-Nov-2023 | GS Paper - 3

Solutions:

मुख्य परीक्षा प्रश्न: 

उत्तर प्रारूप 

भूमिका 

  • पक्षियों के पर्यावरण एवं परिस्थितिक महत्व जैसे -प्रकृतिक संतुलन को बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने में आदि की चर्चा करते हुए संक्षिप्त में भूमिका लिखें।

मुख्य भाग 

  • पक्षियों से होने वाली हानि या बीमारियाँ-पक्षी कई बिमारियों के वाहक होते हैं, ये अपने मल,पंख एवं पेड़ -पौधों के बीजों से कई बीमारियाँ तथा वायरस फैलाते हैं; जैसे- क्लैमाइडियोसिस,एवियन इन्फ्लूएंजा, निपाह वायरस और एवियन टेपेडिक आदि ।
  • वर्तमान में पक्षियों के विलुप्त होने के प्रमुख कारणों में जलवायु परिवर्तन,कीटनाशक औषधि का प्रयोग,आवास की घटती संख्या,अवैध शिकार आदि शमिल हैं।  
  • पक्षी पर्यावरण एवं परिस्थितिक तंत्र के महत्वपूर्ण घटक हैं। ये प्राकृतिक संतुलन को बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। जैसे- कीटों एवं कीड़ों की संख्या को नियंत्रित करने में ; पेड़ -पौधों के बीजों को अन्य स्थानों पर फ़ैलाने में ; पर्यावरण को स्वच्छ रखने में आदि का उल्लेख करें।

निष्कर्ष 

  • पक्षियों के पर्यावरण एवं परिस्थितिक महत्व को बताते हुए संक्षिप्त में निष्कर्ष लिखें


« »
  • SUN
  • MON
  • TUE
  • WED
  • THU
  • FRI
  • SAT
Have any Query?

Our support team will be happy to assist you!

OR