• Sanskriti IAS - अखिल मूर्ति के निर्देशन में

Sanskriti Mains Mission: GS Paper - 3

महारत्न, नवरत्न एवं मिनिरत्न के रूप में सार्वजनिक क्षेत्र के उद्यमों के वर्गीकरण की संकल्पना तथा वर्तमान में इसकी प्रासंगिकता पर प्रकाश डालिये।

21-Nov-2022 | GS Paper - 3

Solutions:

उत्तर प्रारूप-

भूमिका

सार्वजनिक क्षेत्र के उद्यम को परिभाषित करते हुए इनके स्वामित्व एवं कार्यप्रणाली की संक्षेप में चर्चा करें।

मुख्य भाग

  • सार्वजनिक क्षेत्र के उद्यमों का विभिन्न मानदंडों के आधार पर महारत्न, नवरत्न तथा मिनिरत्न के रूप में वर्गीकरण का उल्लेख करें।
  • इनसे होने वाले लाभों तथा इनके विस्तार के आधार पर वर्तमान में इनकी प्रासंगिकता को सिद्ध करें।

निष्कर्ष

आत्मनिर्भर अर्थव्यवस्था के निर्माण तथा विकास के लिये आवश्यक न्यूनतम संवर्द्धन जैसे इसके योगदानों का उल्लेख करते हुए निष्कर्ष लिखें।



« »
  • SUN
  • MON
  • TUE
  • WED
  • THU
  • FRI
  • SAT
CONNECT WITH US!

X