• Sanskriti IAS - अखिल मूर्ति के निर्देशन में

Sanskriti Mains Mission: GS Paper - 1

“1917 की रूसी क्रांति एक ही क्रांति थी, जिसमें दो अवस्थाएँ विकसित हुईं।” व्याख्या कीजिये। (250 शब्द)

07-Oct-2021 | GS Paper - 1

Solutions:

उत्तर प्रारूप

भूमिका (40-50 शब्द )

मार्च एवं अक्तूबर 1917 की घटनाओं का उल्लेख करते हुए रूसी क्रांति का संक्षिप्त परिचय दें। 

मुख्य भाग (140-150 शब्द)

  • मेंशेविक क्रांति के चरण में फ़रवरी/मार्च की घटनाओं जैसे- पेत्रोगार्ड की सड़कों पर रोटी की मांग, सैनिकों का गोली चलाने से इनकार, मज़दूरों एवं सैनिकों द्वारा क्रांतिकारी सोवियत परिषद के गठन की चर्चा करें।
  • करेंसकी के नेतृत्व में मध्य वर्ग की सत्ता स्थापित होना तथा मेंशेविक तथा बोल्शेविक के मध्य मतभेदों को स्पष्ट करें।
  • बोल्शेविक दल का लेनिन के नेतृत्व में सर्वहारा क्रांति के उद्घोष जैसे- युद्ध समाप्त हो, किसानों को भूमि का अधिकार एवं सर्वहारा क्रांति की चर्चा करें। 

निष्कर्ष (40-50 शब्द)

क्रांति के परिणामों का उल्लेख करते हुए संक्षेप में निष्कर्ष लिखें।

« »
  • SUN
  • MON
  • TUE
  • WED
  • THU
  • FRI
  • SAT
CONNECT WITH US!

X