New
Summer Sale - Upto 50-75% Discount on all Online Courses, Valid: 1-5 June | Call: 9555124124

पारिवारिक बचत में गिरावट

संदर्भ
भारत की पारिवारिक बचत में गिरावट को लेकर आर्थिक विशेषज्ञ लगातार चिंता व्यक्त कर रहे हैं। पारिवारिक बचत में गिरावट शुद्ध वित्तीय बचत में भारी कमी के कारण आई है क्योंकि शुद्ध पारिवारिक वित्तीय बचत और जीडीपी अनुपात चार दशक के निचले स्तर पर पहुंच गया है।

वित्तीय बचत क्या है

  • सकल वित्तीय बचत किसी भी कटौती या देनदारियों के लिए लेखांकन से पहले व्यक्तियों, व्यवसायों और सरकार द्वारा बचत की कुल राशि को संदर्भित करती है।
  • पारिवारिक वित्तीय बचत से तात्पर्य मुद्रा, बैंक जमा, ऋण प्रतिभूतियाँ, म्यूचुअल फंड, पेंशन फंड, बीमा और छोटी बचत योजनाओं में निवेश से है। इन बचतों के योग को सकल पारिवारिक वित्तीय बचत कहा जाता है।
  • परिवार की शुद्ध वित्तीय बचत उसकी सकल वित्तीय बचत और उधार के बीच का अंतर है।
    • उधार में गैर-बैंक वित्तीय निगमों और आवास निगमों से लिए गए ऋण के साथ-साथ एक बड़ा हिस्सा वाणिज्यिक बैंकों से लिए गए ऋण होता है।
  • सामान्य तौर पर, निम्नलिखित तीन अलग-अलग कारक हैं जो संभावित रूप से पारिवारिक शुद्ध वित्तीय बचत में कमी के लिए जिम्मेदार हो सकते हैं:-

पारिवारिक वित्तीय बचत में कमी के कारक 

  • अतिरिक्त उपभोग व्यय : आमतौर पर परिवार अपने अतिरिक्त उपभोग व्यय को अपनी उधारी बढ़ाकर या अपनी सकल वित्तीय बचत को कम करके वित्तपोषित करते हैं।
  • हालाँकि, कम शुद्ध वित्तीय बचत प्रयोज्य आय के किसी भी स्तर पर उच्च उपभोग व्यय को वित्तपोषित करके कुल मांग और आउटपुट के लिए प्रोत्साहन प्रदान करती है।
  • भौतिक निवेश में वृद्धि : परिवार अक्सर अपनी उधारी बढ़ाकर या अपनी सकल वित्तीय बचत को कम करके उच्च मूर्त (भौतिक) निवेश का वित्तपोषण करते हैं। इस मामले में भी शुद्ध वित्तीय बचत में कमी निवेश चैनल के माध्यम से कुल मांग और आउटपुट को बढ़ाती है।
  • उच्च ब्याज दरें : उच्च ब्याज दरों के कारण किसी परिवार का ब्याज भुगतान बढ़ जाता है, तो परिवार उधार लेकर या घटती सकल वित्तीय बचत के माध्यम से बढ़े हुए बोझ को पूरा करते हैं, इससे शुद्ध वित्तीय बचत में कमी आती है।

वितीय बचत की मौजूदा स्थिति 

  • भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के अनुसार, वित्त वर्ष 2023 में घरेलू वित्तीय बचत जी.डी.पी. का 5.1% थी, जो लगभग 40 वर्ष का निचला स्तर है।
  • वित्त वर्ष 2023 में परिवारों की वार्षिक वित्तीय देनदारियां जी.डी.पी. के 5.8% तक बढ़ गईं, जो उपभोग और मूर्त (भौतिक) निवेश के लिए ऋण पर असामान्य रूप से उच्च निर्भरता का संकेत है।
    • वित्तीय देनदारियों में वृद्धि की यह दर भारत की आज़ादी के बाद दूसरी सबसे अधिक थी।
  • वित्त वर्ष 2021 में परिवारों ने 22.8 लाख करोड़ की शुद्ध वित्तीय संपत्ति में वृद्धि की, जबकि जबकि वित्त वर्ष 2022 में केवल 17 लाख करोड़ और वित्त वर्ष 2023 में केवल 13.8 लाख करोड़ की शुद्ध वित्तीय संपत्ति की वृद्धि हुई। 

पारिवारिक बचत महत्व 

  • आपूर्ति स्रोत : पारिवारिक बचत पूंजी निवेश के लिए घरेलू धन की आपूर्ति का एक प्रमुख स्रोत है।
  • लाभ की प्राप्ति : परिवार अपनी बचत को विभिन्न प्रकार की परिसंपत्तियों, जैसे जमा, स्टॉक और बांड में निवेश करते हैं। बदले में, उन्हें ब्याज, लाभांश या पूंजीगत लाभ के रूप में अतिरिक्त आय प्राप्त होती है।
  • घरेलू उत्पादन बढ़ाने में सहायक : व्यावसायिक प्रतिष्ठानों को अपना उत्पादन बढाने के लिए नए उपकरण और अन्य पूंजीगत संपत्तियों में निवेश के लिए धन की आवश्यकता होती है, वे बांड आदि जारी करके धन जुटाते हैं।
  • वित्तीय बाज़ार : वित्तीय बाज़ार में धन की आपूर्ति और माँग के अनुसार संचालित होता है। जैसे ही परिवार कॉर्पोरेट बॉन्ड में निवेश करता है, धन वित्तीय बाज़ार के माध्यम से व्यावसायिक प्रतिष्ठानों तक पहुंचता है, जिसे निवेश कर वे अपनी उत्पादक क्षमता बढ़ा सकते हैं।
  • उपभोग व्यय में वृद्धि : बचत परिवारों को धन संचय करने की अनुमति देता है। आय के अलावा, धन उपभोग के लिए एक महत्वपूर्ण निर्धारक है। घरेलू उपभोग में वृद्धि से कुल मांग बढ़ती है जिससे वास्तविक सकल घरेलू उत्पाद में वृद्धि होती है।
  • बफर : बचत करके, परिवार भविष्य की खपत के लिए वर्तमान खपत को कम करता है। इसप्रकार, बचत परिवारों को भविष्य की आर्थिक आवश्यकताओं की पूर्ति में सक्षम बनाने का करती है।

पारिवारिक बचत में गिरावट के प्रभाव 

  • पूंजी निवेश में बाधा : घरेलू बचत भारत सरकार के बुनियादी ढांचे, मशीनरी और उपकरण जैसी भौतिक संपत्तियों में पूंजी निवेश के वित्तपोषण के लिए महत्वपूर्ण है।
    • बचत में गिरावट से सरकार के पूंजी निवेश के लिए धन के प्रमुख स्रोत अवरुद्ध हो सकते हैं।
  • विदेशी पूंजी पर निर्भरता में वृद्धि : घरेलू बचत में गिरावट से विकास को निधि देने के लिए विदेशी पूंजी पर निर्भरता बढ़ जाएगी।
  • निवेश चक्र पर प्रभाव : पारिवारिक उपभोग व्यय बढ़ रहा है, जिसे पूरा करने के लिए उधार का सहारा लिया जा रहा है, निजी उपभोग देश की जीडीपी का लगभग 60% है। निजी उपभोग व्यय में वृद्धि पारिवारिक बचत को कम करती है, परिणामतः निवेश के उपलब्ध धन कम होने लगता है। 
  • ऋणों में वृद्धि : जैसे-जैसे बचत कम होती है उधारी बढ़ती जाती है, भविष्य की आय ऋण के पुनर्भुगतान के लिए आरक्षित हो जाती है, जिससे कम निवेश होता है।
  • बढ़ती असमानता : संपत्ति के गिरते स्तर के साथ वित्तीय देनदारियों में वृद्धि आर्थिक असमानता में वृद्धि एक संकेत देती है।
Have any Query?

Our support team will be happy to assist you!

OR