गांधी मंडेला पुरस्कार

  • 21st November, 2022

(प्रारंभिक परीक्षा : राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय महत्त्व की सामयिक घटनाएँ)

चर्चा में क्यों

हाल ही में, हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल राजेंद्र विश्वनाथ अर्लेकर ने दलाई लामा (14वें) को पहले ‘गांधी मंडेला पुरस्कार 2019’ से सम्मानित किया। 

प्रमुख बिंदु

  • यह पुरस्कार हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला में स्थित मैकलोडगंज के थेकचेन छोएलिंग (Thekchen Choeling) मंदिर परिसर में प्रदान किया गया।
  • गांधी मंडेला पुरस्कार 2019 इस पुरस्कार का प्रथम संस्करण है जिसे नवंबर 2022 में प्रदान किया गया। इस दलाई लामा इस पुरस्कार को प्राप्त करने वाले पहले व्यक्ति बन गए हैं।
  • उल्लेखनीय है कि तिब्बती आध्यात्मिक नेता ‘दलाई लामा’ को वर्ष 1989 में नोबेल शांति पुरस्कार भी प्रदान किया जा चुका है।
  • यह पुरस्कार शांति, समाज कल्याण, संस्कृति, पर्यावरण, शिक्षा, स्वास्थ्य सेवा, खेल और नवाचार के क्षेत्र में गांधी और मंडेला की विरासत को आगे बढ़ाने वाली विभूतियों को प्रदान किया जाता है।

गांधी मंडेला पुरस्कार

Thekchen-Choeling

  • यह एक अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार है, जिसे नई दिल्ली स्थित गांधी मंडेला फाउंडेशन द्वारा प्रदान किया जाता है। यह फाउंडेशन भारत सरकार के तहत पंजीकृत एक गैर-लाभकारी संगठन है।
  • इस फाउंडेशन के गठन का उद्देश्य ‘महात्मा गांधी’ और दक्षिण अफ्रीका के पूर्व राष्ट्रपति ‘नेल्सन मंडेला’ के अहिंसा के मूल्यों को प्रोत्साहित करना है।
  • इस फाउंडेशन ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर इस पुरस्कार की स्थापना की।
  • इसका मुख्यालय नई दिल्ली में स्थित है जबकि इसकी वैश्विक उपस्थिति अमेरिका, अफ्रीका, रूस, लंदन, स्विट्जरलैंड, चीन, नेपाल और बांग्लादेश में है।
CONNECT WITH US!

X