New
UPSC GS Foundation (Prelims + Mains) Batch | Starting from : 8 April 2024 | Call: 9555124124

विश्व प्रेस स्वतंत्रता सूचकांक 2023

प्रारंभिक परीक्षा – विश्व प्रेस स्वतंत्रता सूचकांक 2023
मुख्य परीक्षा के लिए : सामान्य अध्ययन प्रश्नप्रत्र 2 - महत्त्वपूर्ण अंतर्राष्ट्रीय संस्थान, संस्थाएँ और मंच- उनकी संरचना, अधिदेश

सन्दर्भ 

  • हाल ही में, फ्राँस के 'रिपोर्टर्स विदाउट बॉर्डर्स' (RSF) नामक एन.जी.ओ. द्वारा वर्ष 2023 के लिये विश्व प्रेस स्वतंत्रता सूचकांक जारी किया गया। 
  • इस सूचकांक को विश्व के 180 देशों में पत्रकारिता के लिये विद्यमान दशाओं के आधार पर तैयार किया गया है।

विश्व प्रेस स्वतंत्रता सूचकांक 2023

  • यह पिछले वर्ष में देशों के प्रेस स्वतंत्रता रिकॉर्ड के संगठन के अपने आकलन पर आधारित है।
  • यह प्रत्येक देश में पत्रकारों, समाचार संगठनों की स्वतंत्रता और इस स्वतंत्रता का सम्मान करने के लिए अधिकारियों द्वारा किए गए प्रयासों को प्रतिबिंबित करता है।
  • इसमें प्रत्येक देश या क्षेत्र के स्कोर का मूल्यांकन पाँच प्रासंगिक संकेतकों का उपयोग करके किया जाता है –
    1. राजनीतिक संदर्भ
    2. कानूनी ढांचा
    3. आर्थिक संदर्भ
    4. सामाजिक-सांस्कृतिक संदर्भ
    5. सुरक्षा
  • नॉर्वे लगातार सातवें वर्ष सूचकांक में पहले स्थान पर है, आयरलैंड दूसरे स्थान पर और डेनमार्क तीसरे स्थान पर है।
  • इस सूचकांक में भारत को 161वां स्थान प्राप्त हुआ है।
    • विश्व प्रेस स्वतंत्रता सूचकांक, 2022 में भारत 150वें स्थान पर था।
  • भारत सूचकांक में पाकिस्तान और अफगानिस्तान से भी नीचे है।
    • पाकिस्तान 150 वें तथा अफगानिस्तान 152वें स्थान पर है।

भारत में प्रेस की स्वतंत्रता

  • भारत में प्रेस की स्वतंत्रता, संविधान के अनुच्छेद 19(1)(ए) के तहत संरक्षित है।
  • प्रेस की स्वतंत्रता पर अनुच्छेद 19(2) के तहत निम्नलिखित आधार पर प्रतिबंध लगाये जा सकते हैं –
    1. भारत की संप्रभुता और अखंडता
    2. राज्य की सुरक्षा
    3. विदेशी राज्यों के साथ मैत्रीपूर्ण संबंध
    4. सार्वजनिक व्यवस्था, शालीनता या नैतिकता
    5. न्यायालय की अवमानना

Have any Query?

Our support team will be happy to assist you!

OR