New
Summer Sale - Upto 50-75% Discount on all Online Courses, Valid: 1-5 June | Call: 9555124124

बुल शार्क (Bull Shark)

प्रारम्भिक परीक्षा –बुल शार्क (Bull Shark)
मुख्य परीक्षा - सामान्य अध्ययन, पेपर- 3 (पर्यावरण ,जैव-विविधता)

चर्चा में क्यों

हाल ही महाराष्ट्र के पालघर जिले के डोंगरीपाड़ा में वैतरणा नदी में एक मछुआरे पर बुल शार्क ( कारचारिनस ल्यूकस )ने हमला किया था, वह मनोर के पास नदी में 40 किमी ऊपर मृत पायी गई।

Bull-Shark

प्रमुख बिंदु :-

  • शार्क आमतौर खाड़ियों और नदियों में लगभग 7 या 8 किमी पाई जाती हैं। 
  • पहली बार बुल शार्क को वैतरणा नदी में 40 किमी ऊपर की ओर देखा गया है। 
  • वन विभाग और विशेषज्ञों को अभी तक इस शार्क की मौत के कारण पता नहीं चल पाया है। 
  • अधिकारियों के अनुसार, मछली उथले पानी में घायल हो गई होगी या गोवारी पर हमला करने के पश्चात् स्थानीय लोगों ने भी उस पर हमला किया होगा।
  • इस मछली के शव परीक्षण से पता चला कि यह गर्भवती थी, इसके पेट में 15 बच्चे थे।

इस शार्क के नदी के 40 किमी ऊपर आने कारण :-

  • यह मछली गर्भवती थी जिस कारण भोजन की तलाश में नदी की ऊपर आ गई होगी 
  • गर्भवती शार्क भोजन की चाहत में नदी के ऊपर की ओर गई होगी क्योंकि समुद्र के उस हिस्से में मछलियाँ दुर्लभ हैं।
  • एक गर्भवती मछली को सामान्य अवधि में आवश्यकता से अधिक भोजन की आवश्यकता होती है और समुद्र तट के पास समुद्र की तुलना में नदी के पानी में अधिक मछली की उपलब्धता भी गर्भवती बुल शार्क के लिए नदी के विपरीत दिशा में जाने का एक और कारण हो सकती है।
  • वैतरणा नदी में यांत्रिक ड्रेजर द्वारा रेत की खुदाई के कारण कई गहरे गड्ढे बन गए हैं, और ये गड्ढे क्षेत्र में विभिन्न प्रकार की मछलियों को आकर्षित कर रहे हैं, क्योंकि ये गहरे गड्ढे एक सुरक्षित स्थान प्रदान करते हैं। 
  • इन गड्ढों में पर्याप्त भोजन के साथ प्रजनन के लिए (हरी शैवाल, नदी वनस्पति, और नदी की मछलियाँ) अनुकूल स्थिति पायी जाती है।
  • मछली की कई प्रजातियां प्रजनन के लिए वैतरणा नदी में आती हैं। 

वैतरणा नदी:-

Vaitarna-River

  • यह नदी मुंबई के उत्तर और तापी नदी के दक्षिण क्षेत्र में पश्चिम की ओर बहने वाली नदियों में से एक है।
  •  यह नदी महाराष्ट्र के नासिक जिले के त्र्यंबकेश्वर पहाड़ी श्रृंखला से निकलती है और महाराष्ट्र में पश्चिम की ओर लगभग 120 किमी की दूरी तय करने के बाद अरब सागर में मिल जाती है। 
  • वैतरणा नदी की सबसे महत्वपूर्ण सहायक नदी अलवंद नदी है।
  • वैतरणा नदी की अन्य प्रमुख सहायक नदियाँ पिंजल, गंजई, सूर्य, दहरजी और तानसा नदी हैं।

वैतरणा नदी पर जल परियोजनाएँ-

  • वैतरणा नदी पर स्थित जल केंद्रों का रखरखाव केंद्रीय जल आयोग द्वारा किया जाता है। 
  • वैतरणा नदी पर दुर्वेश में सीडब्ल्यूसी का एकमात्र हाइड्रोलॉजिकल अवलोकन स्थल है जो सूर्या और तानसा सहायक नदियों के संगम के ऊपरी हिस्से में स्थित है।

वैतरणा हाइड्रो इलेक्ट्रिक प्रोजेक्ट एक बहुउद्देशीय परियोजना :-

  • इसका निर्माण वैतरणा नदी के ऊपरी हिस्सों पर किया गया है। 
  • यह महाराष्ट्र के नासिक जिले में घोटी से 30 किलोमीटर दूर वैतरणा और अलवंडी चिनाई के पास स्थित है। 
  • इस परियोजना को वर्ष 1976 में मंजूरी दी गई थी। 
  • इसका निर्माण वैतरणा और अलवंडी नदियों पर एक मिट्टी के बांध के रूप में किया गया है। 
  • बांध में जलग्रहण क्षेत्र 160.8 वर्ग किलोमीटर है और बांध की ऊंचाई और लंबाई 47 मीटर है। 
  • इसके पावर हाउस में 60 मिलियन वाट की एक इकाई है। 
  • इसकी सकल क्षमता 301.60 मिलियन क्यूबिक मीटर है। 
  • इसकी लाइव क्षमता 295.80 मिलियन क्यूबिक मीटर है।

मोदक सागर परियोजना :-

  • इसका निर्माण वैतरणा नदी के निचले हिस्सों पर किया गया है। 
  • यह एक मध्यम सिंचाई परियोजना है।

नोट :- 

  • दहानु खाड़ी और वैतरणा नदी में डॉल्फ़िन पाई जाती है।

बुल शार्क (Bull Shark) :-

BullShark

  • यह शार्क की एक उप-प्रजाति, जिसे स्थानीय रूप से 'मोदका' के नाम से जाना जाता है। 
  • इसका मुंह बुल शार्क के वी-आकार के बजाय यू-आकार का होता है। 
  • इनका वजन लगभग 550 किलोग्राम वजनी 
  • यह 6-7 फीट लंबी होती है। 

यह विश्व के तीन प्रकार के पानी में पायी जाती है:- 

    • महासागरों के खारे पानी में  
    • नदियों के मीठे पानी में 
    • झीलों के ताजे पानी में
  • यह विश्व में उष्णकटिबंधीय से उपोष्णकटिबंधीय तटीय जल में पाई जाती हैं। 
  • यह अन्य शार्क के विपरीत, मीठे पानी में लंबे समय तक जीवित रह सकती हैं।
  • मीठे पानी में रहने के दौरान इसके शरीर में नमक की मात्रा बनाए रखने के लिए विशेष ग्रंथियां और गुर्दे होते हैं।

shark

  • यह असामान्य स्थानों पर घूमने के लिए जानी जाती है।
  • निवास स्थान :- बुल शार्क मध्य अमेरिका, मैक्सिको, भारत, पूर्व और पश्चिम अफ्रीका, मध्य पूर्व, दक्षिण पूर्व एशिया और दक्षिण प्रशांत सहित दुनिया के कई अविकसित क्षेत्रों में पाई जाती है।
  • यह पेरू में अमेज़ॅन नदी, इलिनोइस में मिसिसिपी नदी, इलिनोइस में मिसिसिपी नदी आदि नदियों में भी पाई जाती है। 

विशेषता :-

  • बुल शार्क को अक्सर उनकी आक्रामक प्रवृत्ति और नदियों में प्रवास करने की क्षमता के कारण मनुष्यों के लिए सबसे खतरनाक माना जाता है। 
  • यह ज्यादातर मछलियाँ खाती हैं, लेकिन अन्य शार्क प्रजातियाँ, समुद्री स्तनधारी, पक्षी और कछुए भी खा सकती हैं। 
  • बुल शार्क को अन्य बुल शार्क को खाते हुए भी देखा गया है। 
  • वयस्क शार्क स्वयं शिकार करने की प्रवृत्ति रखती हैं।
  • इनका जीवनकाल सामान्यतः 12 से 16 वर्ष का होता है।

संरक्षण की स्थिति :-

IUCN की रेड लिस्ट में : निकट संकटग्रस्त (Near Threatened) के रूप में सूचीबद्ध। 

खतरा :-

  • बैल शार्क को अन्य प्रजातियों की तुलना में प्रदूषण, शिकार और निवास स्थान के क्षरण से अधिक खतरा होता है। 
  • इन्हें जानबूझकर इनके पंखों, लीवर के तेल और त्वचा के लिए पकड़ा जाता है। 

शार्क (Shark) :-

bull_shark

  • यह समुद्री जल में रहने वाला माँसाहारी प्राणी है। 
  • इसका शरीर बहुत लम्बा होता है जो शल्कों से ढका रहता है। 
  • इन शल्कों को प्लेक्वायड कहते हैं। 
  • इसकी त्वचा चिकनी होती है। त्वचा के नीचे वसा (चर्बी) की मोटी परत होती है। 
  • इसके शरीर में हड्डी की जगह उपास्थि पाई जाती है। 
  • इसका शरीर नौकाकार होता है। 
  • इसका निचला जबड़ा ऊपरी जबड़े से छोटा होता है। 
  • इसका मुँह सामने न होकर नीचे की ओर होता है जिसमें तेज दाँत होते हैं। 
  • शार्क के शरीर में देखने के लिए एक जोड़ी आँखें, तैरने के लिए पाँच जोड़े पखने और श्वांस लेने के लिए पाँच जोड़े क्लोम होते हैं।

प्रारंभिक परीक्षा प्रश्न:-बुल शार्क के संदर्भ में, निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए: 

  1. यह शार्क की एक उप-प्रजाति है, जिसे स्थानीय रूप से 'मोदका' के नाम से जाना जाता है। 
  2. यह विश्व में उष्णकटिबंधीय से उपोष्णकटिबंधीय तटीय जल में पाई जाती हैं। 
  3. यह मीठे पानी में रहने के दौरान अपने शरीर में नमक की मात्रा को बनाए रखने के लिए विशेष ग्रंथियों एवं गुर्दे का उपयोग करती है।

उपर्युक्त में से कितने कथन सही हैं?

(a) केवल एक

(b) केवल दो

(c) सभी तीन

(d) कोई भी नहीं

उत्तर - (c)

स्रोत: The Hindustan Times

Have any Query?

Our support team will be happy to assist you!

OR