• Sanskriti IAS - अखिल मूर्ति के निर्देशन में

ई सिम

  • 21st September, 2022

(प्रारंभिक परीक्षा- सामान्य विज्ञान)
(मुख्य परीक्षा, सामान्य अध्ययन प्रश्नपत्र- 3 : विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी- विकास एवं अनुप्रयोग और रोज़मर्रा के जीवन पर इसका प्रभाव)

संदर्भ

फ़ोन निर्माता कंपनी एप्पल के अनुसार, आई-फ़ोन 14 (iPhone 14) अमेरिका में पूरी तरह से ई सिम (eSIM) पर आधारित है। इसमें भौतिक सिम कार्ड का प्रयोग नहीं किया जा रहा है। हालाँकि, अन्य देशों के आई-फोन में अभी भौतिक सिम का प्रयोग जारी रहेगा।

क्या है ई सिम

  • ई सिम एक प्रकार से इम्बेडेड सिम (Embedded SIM) है। वस्तुत: इसका हार्डवेयर किसी नियमित सिम कार्ड चिप की तहर ही होता है, किंतु यह किसी स्मार्टफोन या स्मार्टवॉच के मदरबोर्ड का स्थाई रूप से अंतर्निहित भाग (Permanently Embedded Part) होता है। 
  • पारंपरिक सिम कार्ड की तरह ई सिम में भी सामान घटक मौजूद होते हैं, जो फ़ोन के आंतरिक अंगों का एक हिस्सा होता है। इसके अलग करना संभव नहीं है। 
  • ये पूर्णत: पारंपरिक सिम कार्ड की तरह ही कार्य करते हैं। कॉल या टेक्स्ट के नियत स्मार्टफोन तक पहुंचने के लिये ई सिम दूरसंचार ऑपरेटरों और अन्य उपभोक्ताओं के लिये एक विशिष्ट पहचानकर्ता के रूप में कार्य करते हैं।
  • उल्लेखनीय है कि इसमें उपभोक्ताओं को रि-प्रोग्रामिंग की सुविधा भी प्रदान की जाती है। उपभोक्ता बिना किसी भौतिक सिम कार्ड को बदले अपने नेटवर्क ऑपरेटर को स्विच (परिवर्तन) करने में सक्षम हैं। 

प्रमुख बिंदु

  • उल्लेखनीय है कि ई सिम कोई नई तकनीक नहीं है। यह लंबे समय से प्रचलन में है। इन्हें सर्वप्रथम एक दशक पूर्व वर्ष 2012 में स्थापित किया गया था।
  • वर्तमान में इसे स्वास्थ्य-उन्मुख स्मार्टवॉच और स्मार्टफ़ोन आदि में जोड़ा जा रहा है। मुख्यत: गूगल पिक्सल सीरीज, सैमसंग गैलेक्सी S और Z सीरीज तथा ई-फ़ोन में इसका प्रयोग किया जा रहा है ।

ई सिम के लाभ

सुविधाजनक प्रणाली 

  • नियमित रूप से एक ही सिम कार्ड का उपयोग कर रहे या बार-बार मोबाइल अथवा सिम न बदलने वाले उपयोगकर्ताओं के लिये लाभदायक।  
  • किसी अन्य राज्य या देश की यात्रा की स्थिति में किसी स्टोर या सेंटर के बिना ही ऑपरेटर बदलने की सुविधा।
  • एक ई सिम में एक से अधिक सिम प्रोफाइल को संग्रह करना संभव।
  • यह उपभोक्ताओं को बिना किसी विशेष प्रक्रिया या सिम परिवर्तन के सिम प्रोफाइल परिवर्तन का विकल्प सुलभ कराता है।

अधिक सुरक्षित 

  • किसी पारंपरिक सिम कार्ड वाले फ़ोन के चोरी होने या गायब होने की स्थिति में फ़ोन प्राप्तकर्ता सिम को निकलकर अन्य माध्यमों से इसका दुरूपयोग या धन निकासी कर सकता है।
  • फ़ोन को अनलॉक किये बिना ई सिम का प्रयोग संभव नहीं है तथा इसे एक उपकरण से निकालकर किसी अन्य उपकरण में नहीं प्रयोग किया जा सकता है।

सुविधाजनक

  • पारंपरिक सिम कार्ड की तुलना में यह वायु, धूल या जल से सुरक्षित रहता है। सिद्धांत रूप में स्लॉट कम होने से धूल और पानी जैसे तत्वों के फोन में प्रवेश करने की संभावना कम हो जाती है।
  • इसके लिये फ़ोन में सिम कार्ड के लिये अतिरिक्त आरक्षित स्थान की आवश्यकता नहीं होती है।

ई सिम की हानियाँ 

आपात स्थिति 

  • फ़ोन की बैटरी के ख़त्म होने अथवा फोन की स्क्रीन अचानक टूट जाने की स्थिति में ई सिम का संचालन बंद हो जाता है। 
  • हालाँकि, पारंपरिक सिम कार्ड को एक फ़ोन से दूसरे फ़ोन में स्थानांतरित करना अत्यधिक सरल है। 
  • ई सिम का उपयोग उन देशों में संभव नहीं है जहा दूरसंचार कंपनियों ने अभी तक इसके लिये उपर्युक्त प्रणाली को स्थापित नहीं किया है। 

केवल प्रीमियम फोन में उपलब्ध 

  • भारत में ई सिम सुविधा केवल महंगे फोन में उपलब्ध है और एक औसत उपयोगकर्ता इसमें असमर्थ है।
  • ई सिम का चयन उपयोगकर्ताओं को इस तकनीक का समर्थन करने वाले उपकरणों के कुछ चुनिंदा समूह तक प्रतिबंधित कर देता है।
  • दूरसंचार कंपनियों द्वारा भविष्य में ई सिम को अन्य ऑपरेटर नेटवर्क में स्विच करने के लिये अतिरिक्त शुल्क लिया जा सकता है।  
CONNECT WITH US!

X