• Sanskriti IAS - अखिल मूर्ति के निर्देशन में

मंकीपॉक्स वायरस 

  • 30th July, 2022

(मुख्य परीक्षा, सामान्य अध्ययन प्रश्नपत्र-2 : स्वास्थ्य)

संदर्भ 

दुनिया भर में मंकीपॉक्स के मामलों में तेज वृद्धि को देखते हुए विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने 23 जुलाई, 2022 को इस बीमारी को अंतर्राष्ट्रीय चिंता का सार्वजनिक स्वास्थ्य आपातकाल (Public Health Emergency of International Concern : PHEIC) घोषित किया।

पी.एच.ई.आई.सी. घोषणा

  • विश्व स्वास्थ्य संगठन पी.एच.ई.आई.सी. को एक ऐसी बीमारी के प्रकोप के रूप में परिभाषित करता है जो बीमारी के अंतर्राष्ट्रीय प्रसार के माध्यम से एक सार्वजनिक स्वास्थ्य जोखिम का गठन करता है, जिसके लिए तत्काल और समन्वित अंतर्राष्ट्रीय प्रतिक्रिया की आवश्यकता हो सकती है। 
  • वर्ष 2009 से अब तक WHO ने कोविड-19 महामारी सहित सात PHEIC घोषणाएँ की हैं। यह महामारी के बढ़ने से पहले बीमारी के प्रसार को रोकने के लिए अंतरराष्ट्रीय प्रयासों में तेजी लाने पर जोर देता है। 
  • यह देशों के मध्य टीके और चिकित्सीय जैसे प्रमुख संसाधनों के बंटवारे के साथ-साथ बढ़े हुए संपर्क अनुरेखण, निदान और टीकाकरण के समन्वय को बढ़ावा देता है। इसके साथ ही WHO प्रभावित देशों को एक प्रभावी प्रकोप प्रतिक्रिया और निगरानी के साथ-साथ रोकथाम और उपचारात्मक रणनीतियाँ विकसित करने के लिए सहायता प्रदान करेगा। 

क्या है मंकीपॉक्स

  • मंकीपॉक्स एक दुर्लभ बीमारी है जो मंकीपॉक्स विषाणु के संक्रमण से होती है। यह विषाणु पॉक्सविरिडे (Poxviridae)परिवार के ऑर्थोपॉक्सवायरस वंश से संबंधित है जो कि एक डबल-स्ट्रैंडेड डी.एन.ए. विषाणु है।
  • इसका संक्रमण पहली बार वर्ष 1958 में शोध के लिये रखे गए बंदरों की कॉलोनियों मेंदर्ज़ किया गया जिसके कारण इसका नाम 'मंकीपॉक्स' रखा गया।
  • मनुष्यों में इसका पहला मामला वर्ष 1970 में कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य में पाया गया।
  • यह एक प्रकार की जूनोटिक बीमारी है। इस विषाणु के वाहक जानवर मुख्यत: उष्णकटिबंधीय वर्षा वनों में पाए जाते हैं। इनमें गिलहरी, गैम्बियन चूहे, डॉर्मिस और बंदरों की कुछ प्रजातियाँ शामिल हैं।

लक्षण

  • प्रारंभिक लक्षणों में बुखार, सिरदर्द, सूजन, पीठ दर्द, मांसपेशियों में दर्द शामिल हैं।
  • शरीर पर दाने उभर जाना जिसकी शुरुआत चेहरे से होती हैं, लेकिन ये हथेलियों और तलवों में ज्यादा होते हैं।

वायरस संचरण

  • मनुष्य में मंकीपॉक्स का प्रसार संक्रमित व्यक्ति या जानवर के निकट संपर्क से होता है अथवा वायरस से संक्रमित किसी भौतिक वस्तु से।
  • वायरस का पशु-से-मानव संचरण रक्त, तरल पदार्थ या संक्रमित जानवरों के त्वचा के घावों के निकट संपर्क से हो सकता है।
  • एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में इसका प्रसार घाव, शरीर के तरल पदार्थ, श्वास ड्रॉपलेट्स, संक्रमित व्यक्ति के बिस्तर आदि के संपर्क से होता है।

उपचार

  • मंकीपॉक्स की अभी तक कोई सुरक्षित, प्रमाणिक चिकित्सा उपलब्ध नहीं है।
  • संक्रमण की रोकथाम और नियंत्रण के लिए जागरूकता जरूरी है।
  • चेचक का टीका इसे रोकने में 85% प्रभावी है तथा एंटीवायरल दवाएँ भी सहायक हो सकती हैं।
CONNECT WITH US!

X