New
IAS Foundation New Batch, Starting From: Delhi : 18 July, 6:30 PM | Prayagraj : 17 July, 8 AM | Call: 9555124124

पर्यूषण 2023( Paryushan 2023)

प्रारंभिक परीक्षा- पर्यूषण 2023( Paryushan 2023)
मुख्य परीक्षा- सामान्य अध्ययन, पेपर-1  

चर्चा में क्यों

 पर्यूषण पर्व 12 सितंबर2023  से शुरू हो कर 20 सितंबर 2023 को समाप्त हुआ।

Paryushan-2023

प्रमुख बिंदु 

  •  पर्यूषण पर्व जैन धर्म के लोगों का एक महत्वपूर्ण त्यौहार है, जो दिगंबर और श्वेतांबर दोनों समुदायों द्वारा मनाया जाता है।
  • यह जैनियों के लिए गहन चिंतन, पश्चाताप और मुक्ति का समय होता है।
  •  पर्यूषण पर्व, जैन समाज का एक महत्वपूर्ण पर्व है। 
  • जैन धर्मावलंबी भाद्रपद मास में पर्यूषण पर्व मनाते हैं।
  • पर्यूषण पर्व की समाप्ति पर क्षमायाचना पर्व मनाया जाता है।
  •  पर्यूषण जैन समुदाय के लोगों के सबसे महत्वपूर्ण  त्यौहार में से एक है। दिगंबर और श्वेतांबर दोनों ही इस त्यौहार को बड़े उत्साह और खुशी के साथ मनाते हैं।

महत्व:

  • जैन समुदाय के बीच पर्यूषण पर्व का बहुत महत्व है। वे इस त्यौहार को बड़ी श्रद्धा से मनाते हैं।
  •  श्वेतांबर जैन समुदाय आठ दिनों तक त्यौहार मनाता है, जबकि दिगंबर जैन समुदाय इसे दस दिनों तक मनाता है।
  •  इसके अलावा नौवें दिन गणेश चतुर्थी होती है।
  • इस शुभ त्योहार के दौरान लोग एक-दूसरे को आध्यात्मिकता के मार्ग पर चलने के लिए प्रोत्साहित करते हैं। इस पर्व को क्षमापर्व के नाम से भी जाना जाता है।
  • आध्यात्मिक महत्व: पर्युषण पर्व व्यक्तियों को सद्गुण विकसित करने के लिए प्रेरित करता है।
  •  इसमें उपवास, तपस्या, ध्यान और आत्म-चिंतन, आत्मा शुद्धि का लक्ष्य और भविष्य के अपराधों से बचने की शपथ लेना शामिल है।
  •  यह धार्मिकता और आध्यात्मिक शुद्धता की तलाश करने का समय है, अंततः मोक्ष का लक्ष्य है।
  •  पर्यूषण के पांच कर्तव्य: इनमें संवत्सरी (क्षमा और सुलह), केशलोचन (आत्मनिरीक्षण और आत्म-सुधार), प्रतिक्रमण (पिछले गलत कामों के लिए माफी मांगना), तपस्या (आध्यात्मिक विकास के लिए प्रतिबद्धता), आत्म-आलोचना और पिछली गलतियों के लिए माफी शामिल है।

प्रश्न:  निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए 

  1. पर्यूषण पर्व जैन धर्म के लोगों का एक महत्वपूर्ण त्यौहार है, जो  केवल दिगंबर समुदाय द्वारा मनाया जाता है।
  2. पर्यूषण के पांच कर्तव्य संवत्सरी , केशलोचन , प्रतिक्रमण , तपस्या, आत्म-आलोचना  शामिल है।

उपर्युक्त में से कितने कथन सही हैं ?

(a) केवल 1  

(b) केवल 2  

(c) कथन 1 और 2 

(d) न तो 1 ना ही 2 

उत्तर: (b)

स्रोत; टाइम्स ऑफ इंडिया

Have any Query?

Our support team will be happy to assist you!

OR