New
UPSC Prelims 2024 Answer Key with Detailed Solution

शॉर्ट न्यूज़ : 16 अप्रैल , 2024

शॉर्ट न्यूज़ : 16 अप्रैल , 2024


पहाड़िया जनजाति

अनुराग कुमार, केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) के संयुक्त निदेशक नियुक्त

CDP-सुरक्षा प्लेटफार्म

संजय शुक्ला - नेशनल हाउसिंग बैंक (NHB) के नए प्रबंध निदेशक (MD)

लोकेश मुनि को अमेरिकी राष्ट्रपति का गोल्ड वालंटियर सर्विस पुरस्कार

ऑपरेशन मेघदूत

लोंगटे त्योहार

राष्ट्रीय वर्ड पावर चैम्पियनशिप


पहाड़िया जनजाति

  • पहाड़िया जनजाति मुख्य रूप से झारखंड और पश्चिम बंगाल राज्यों में रहते हैं। 
    • उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र और ओडिशा में भी इनके बिखरे हुए समूह हैं। 
  • वे झूम खेती करते हैं, जिसमें कुछ वर्षों तक खेती के लिए वनस्पति जलाकर भूमि साफ़ करना और खेती करना शामिल है।

झारखंड में दो प्रकार पहाड़िया जनजाति हैं-

सोरिया पहाड़िया:

  • सौरिया पहाड़िया झारखंड की एक आदिम जनजाति है, जो मुख्य रूप से साहेबगंज, पाकुड़, गोड्डा, दुमका और जामताड़ा जिलों के संथाल परगना क्षेत्र में निवास करती है।
  • चन्द्रगुप्त मौर्य (ई.पू. 302) ने भारत भ्रमण के दौरान राजमहल पहाड़ियों के उपनगरों में रहने वाली जंगली आदिम प्रजातियों का उल्लेख माली (मानव) या सौरी के रूप में किया है।
  • इस जनजाति की पहचान एक लड़ाकू कबीले के रूप में है, जो अपनी स्वतंत्रता को बनाए रखने के लिए सदैव संघर्ष करता रहा है।
  • शारीरिक विशेषताएं:
    • इस जनजाति का कद छोटा, नाक चौड़ा, कपाल धडया, रंग हल्का भूरा तथा बाल घने एवं लहरदार होते हैं। 
    • यह जनजाति प्रोटोस्ट्रोलॉइड प्रजातियों को संरक्षित करती है।
  • भाषा:

               सौरिया पहाड़िया जनजाति माल्टो भाषा बोलती है, जो द्रविड़ भाषा समूह से संबंधित है।

  • सामाजिक जीवन:
    • सौरिया पहाड़िया जनजाति एक अंतरजातीय जनजाति है, जिनके बीच जनजाति जैसे सामाजिक संगठन का अभाव है।
    • इस जनजाति का परिवार पितृसत्तात्मक होता है। 
    • इनमें एकल परिवार की बहुलता है तथा संयुक्त परिवार कम ही देखने को मिलता है।
    • इस जनजाति में करीबी रिश्तेदारों के साथ विवाह संपादित नहीं किया जाता है। 
    • हालाँकि, गांव में ही शादी करना उनके लिए बुरा नहीं माना जाता है।
    • सौरिया पहाड़िया जनजाति के बीच, 'कोडबाह हाट' नामक युवाओं का एक समूह पारंपरिक औपचारिक शिक्षा केंद्र के रूप में काम कर रहा है। 
    • इसके युवा महिलाओं को सामाजिक, सांस्कृतिक, धार्मिक और आर्थिक शिक्षा देकर उनके निर्माण में महत्वपूर्ण योगदान देते हैं।
  • धार्मिक जीवन:

                सौरिया पहाड़िया जनजाति में पैतृक पूजा का महत्वपूर्ण स्थान है। यह जनजाति आत्मा के पुनर्जन्म में विश्वास रखती है।

माल पहाड़िया:

  • माल पहाड़िया लोग भारत के द्रविड़ जातीय लोग हैं, जो मुख्य रूप से झारखंड और पश्चिम बंगाल राज्यों में रहते हैं।
  • वे राजमहल पहाड़ियों के मूल निवासी हैं।
  • उन्हें पश्चिम बंगाल, बिहार और झारखंड की सरकारों द्वारा अनुसूचित जनजाति के रूप में सूचीबद्ध किया गया है।
  • भाषा:

                 माल पहाड़िया जनजाति भी माल्टो भाषा बोलती है, जो द्रविड़ भाषा समूह से संबंधित है।

  • सामाजिक जीवन:
    • इनका समाज पितृसत्तात्मक है, जहाँ पति या वरिष्ठ पुरुष परिवार का मुखिया होता है।
    • उनकी शादी और अन्य समारोहों की रस्में बंगाली संस्कृति के अनुकूलन को दर्शाती हैं।
    • हालाँकि वे अपने समुदाय के लिए विशिष्ट कुछ अनुष्ठानों का पालन करते हैं।
    • वे दिवंगत आत्मा के प्रति सम्मान प्रकट करने के लिए शव से प्राप्त धागे की पूजा करते हैं, जिसे मारुपा पूजा के नाम से जाना जाता है। 
    • माल पहाड़ी कृषि और वन उपज पर जीवित हैं।
  • धार्मिक जीवन: 

                माल पहाड़िया अपने सौरिया पहाड़िया समकक्षों की तरह धर्मेर गोसाईं नामक एक सूर्य देवता का अनुसरण करते हैं।


अनुराग कुमार, केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) के संयुक्त निदेशक नियुक्त

  • हाल ही में भारतीय पुलिस सेवा के अधिकारी अनुराग कुमार को केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के संयुक्त निदेशक के पद पर नियुक्त किया गया। 
  • इनका कार्यकाल 24 फरवरी 2027 तक रहेगा 

केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI)

  • CBI भारत की प्रमुख जांच एजेंसी है
  • यह भ्रष्टाचार, आर्थिक अपराध और आपराधिक मामलों की जांच करती है 
  • इसे दिल्ली विशेष पुलिस स्थापना अधिनियम, 1946 के तहत जांच करने की शक्ति प्राप्त है।
  • यह भारत सरकार के कार्मिक, पेंशन और लोक शिकायत मंत्रालय के कार्मिक विभाग के तहत कार्य करती है 
  • यह भारत में नोडल पुलिस एजेंसी है, जो इंटरपोल सदस्य देशों की ओर से जांच का समन्वय करती है।
  • इसकी स्थापना वर्ष 1963 में की गई थी 
  • इसका मुख्यालय नई दिल्ली में है

CDP-सुरक्षा प्लेटफार्म

  • हाल ही में केंद्र सरकार ने क्लस्टर विकास कार्यक्रम (CDP) के तहत ' CDP-सुरक्षा' प्लेटफार्म लॉन्च किया। 

CDP-सुरक्षा प्लेटफार्म 

  • सुरक्षा का अर्थ "एकीकृत संसाधन आवंटन, ज्ञान और सुरक्षित बागवानी सहायता के लिए प्रणाली" है।
  • यह एक डिजिटल प्लेटफॉर्म है।
  • इसका उद्देश्य बागवानी क्षेत्र के विकास को बढ़ावा देना है। 
  • इसे बागवानी किसानों को सब्सिडी देने के लिए लांच किया गया है।
  • यह नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया से e-RUPI वाउचर का उपयोग करके किसानों को उनके बैंक खातों में तुरंत सब्सिडी देने की अनुमति देगा।

संजय शुक्ला - नेशनल हाउसिंग बैंक (NHB) के नए प्रबंध निदेशक (MD)

SANJAY-SHUKLA

  • हाल ही में संजय शुक्ला को नेशनल हाउसिंग बैंक (NHB) का प्रबंध निदेशक (MD) नियुक्त किया गया है।

नेशनल हाउसिंग बैंक(NHB)

  • NHB एक अखिल भारतीय वित्तीय संस्थान (AIFl) है
  • इसका स्वामित्व पूर्ण रूप से केंद्र सरकार के पास है।
  • इसकी स्थापना वर्ष 1988 में राष्ट्रीय आवास बैंक अधिनियम, 1987 के तहत की गई थी।
  • इसका मुख्यालय नई दिल्ली में है।
  • यह देश में आवास क्षेत्र के लिए शीर्ष वित्तीय संस्था है।
  • इसका लक्ष्य आवास वित्त संस्थानों को बढ़ावा देना और ऐसे संस्थानों को वित्तीय और अन्य सहायता प्रदान करना है।

लोकेश मुनि को अमेरिकी राष्ट्रपति का गोल्ड वालंटियर सर्विस पुरस्कार

JAIN-MUNI

  • हाल ही में, भारत के जैन आध्यात्मिक नेता लोकेश मुनि को अमेरिकी राष्ट्रपति का गोल्ड वालंटियर सर्विस पुरस्कार प्रदान किया गया।
  • इन्हें यह पुरस्कार जन कल्याण और मानवता में योगदान के लिए दिया गया
  • लोकेश मुनि भारत में अहिंसा विश्व भारती और विश्व शांति केंद्र के संस्थापक हैं।

गोल्ड वालंटियर सर्विस पुरस्कार

  • वर्ष 2003 में, अमेरिका के राष्ट्रपति की काउंसिल ऑन सर्विस एंड सिविक एंगेजमेंट द्वारा राष्ट्रपति के गोल्ड वालंटियर सर्विस पुरस्कार की स्थापना की गई थी।
  • यह पुरस्कार उन व्यक्तियों को दिया जाता है जिन्होंने अमेरिका में कम से कम 500 घंटे की स्वैच्छिक सेवा प्रदान की हो 
  • इसके पुरस्कार के विजेताओं का चयन अमेरिकॉर्ड्स द्वारा किया जाता है।
  • अमेरिकॉर्ड्स अमेरिकी सरकार की एक स्वतंत्र एजेंसी है
  • यह लोगों को विभिन्न क्षेत्रों में कार्यक्रमों के माध्यम से स्वयंसेवा में संलग्न करती है।  

ऑपरेशन मेघदूत

MEGHDOOT

  • हाल ही में ऑपरेशन मेघदूत के 40 वर्ष हो गए 
  • यह ऑपरेशन भारतीय सेना द्वारा सियाचिन ग्लेशियर में चलाया गया था।
  • पाकिस्तान ऑपरेशन अबाबील के तहत सियाचिन पर कब्जा करना चाहता था।
  • भारतीय सेना ने 13 अप्रैल 1984 को ऑपरेशन मेघदूत चलाकर सियाचिन ग्लेशियर पर पूर्ण नियंत्रण स्थापित कर लिया।

सियाचिन ग्लेशियर

LAC-MAP

  • सियाचिन ग्लेशियर, हिमालय में पूर्वी काराकोरम रेंज में स्थित है।
  • यह विश्व का सबसे ऊँचा युद्धक्षेत्र है।
  • यह लगभग 20,000 फुट की ऊंचाई पर स्थित है।
  • यहाँ से नुब्रा नदी निकलती है।
  • क्या है सियाचिन विवाद
  • भारत और पाकिस्तान के बीच नियंत्रण रेखा (LOC) को वर्ष 1972 के शिमला समझौते के तहत NJ-9842 बिंदु तक दोनों पक्षों द्वारा स्वीकार किया गया था।
  • इसमें सियाचिन ग्लेशियर को अचिह्नित छोड़ दिया गया था।
  • भारत वर्ष 1947 के जम्मू और कश्मीर विलय समझौते और वर्ष 1949 के कराची समझौते के आधार पर इस क्षेत्र पर दावा करता है।
  • पाकिस्तान कराची युद्धविराम समझौते तथा शिमला समझौते के आधार पर इसे अपना क्षेत्र बताता है।

लोंगटे त्योहार

longte

  • हाल ही में, अरुणाचल प्रदेश में लोंगटे त्योहार मनाया गया 
  • यह त्योहार न्यीशी जनजाति द्वारा मनाया जाता है।
  • यह न्यीशी जनजाति के सबसे पुराने त्योहारों में से एक है
  • इसका आयोजन वसंत ऋतु की शुरुआत के समय अप्रैल में किया जाता है।
  • यह त्योहार 7 दिनों तक मनाया जाता है।
  • इसमें जानवरों की बलि नहीं दी जाती इसीलिए इसे रक्तहीन त्योहार के नाम से भी जाना जाता है।
  • यह अरुणाचल प्रदेश का एकमात्र ऐसा त्यौहार है जो आयोजन के दौरान या उसके बाद जानवरों की हत्या पर रोक लगाता है।
  • अरुणाचल प्रदेश के अन्य प्रमुख त्योहार लोसर महोत्सव, तोर्ग्या महोत्सव
  • साका दावा, दुक्पा त्से-शि आदि हैं।

न्यीशी जनजाति

NYISI

  • न्यीशी जनजाति, अरुणाचल प्रदेश में सबसे बड़ा जातीय समूह है।
  • ये अपने साहस और दृढ़ संकल्प के लिए जाने जाते हैं। 
  • इनका मानना ​​है कि ये अबुतानी के वंशज हैं, और तानी समुदाय का हिस्सा हैं।
  • ये झूम खेती करते हैं और मिट्टी तथा स्थानीय बेंत और बांस से बने नामलो नामक घरों में रहते हैं

प्रश्न - लोंगटे त्योहार किस राज्य से संबंधित है ?

(a) अरुणाचल प्रदेश 

(b) असम

(c) त्रिपुरा 

(d) मणिपुर


    राष्ट्रीय वर्ड पावर चैम्पियनशिप

    • हाल ही में राष्ट्रीय वर्ड पावर चैम्पियनशिप का आयोजन मुंबई में किया गया 
    • इस प्रतियोगिता में आठ राज्यों ने भाग लिया  - झारखंड, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, राजस्थान, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, छत्तीसगढ़ और उत्तर प्रदेश।
    • झारखंड इस प्रतियोगिता में पहले स्थान पर तमिलनाडु दूसरे स्थान पर तथा महाराष्ट्र तीसरे स्थान पर रहा 
    • इस प्रतियोगिता में कक्षा दो से पांचवीं तक के बच्चों ने भाग लिया था 

    राष्ट्रीय वर्ड पावर चैम्पियनशिप

    • यह प्रतियोगिता अमेरिका की 'स्पेलिंग बी कॉम्पिटिशन' की तर्ज पर आयोजित की जाती है
    • यह भारत की एकमात्र अंग्रेज़ी प्रतियोगिता है
    • इसे विशेष रूप से क्षेत्रीय भाषा के स्कूलों के छात्रों के लिये आयोजित किया जाता है।
    • इसका उद्देश्य क्षेत्रीय भाषा के स्कूलों के छात्रों को अपनी अंग्रेज़ी प्रतिभा को प्रदर्शित करने हेतु एक मंच प्रदान करना है।
    • इसका आयोजन प्रति वर्ष लीप फॉर वर्ड और मैरिको नामक संस्था द्वारा किया जाता है।

    Have any Query?

    Our support team will be happy to assist you!

    OR