• Sanskriti IAS - अखिल मूर्ति के निर्देशन में

शॉर्ट न्यूज़

शॉर्ट न्यूज़: 22 सितम्बर, 2022


विधानसभा में महिला विधायकों के लिये विशेष दिवस

स्पर्श पहल


विधानसभा में महिला विधायकों के लिये विशेष दिवस

चर्चा में क्यों

उत्तर प्रदेश विधानसभा ने महिला विधायकों द्वारा महिला केंद्रित समस्याओं को रेखांकित करने के लिये एक विशेष दिवस का निर्धारण किया है। यह अपनी तरह की अभिनव पहल है।

प्रमुख बिंदु

  • इस विशेष प्रयोजन के लिये 22 सितंबर का दिन निर्धारित किया गया है। इस दिन प्रश्न काल के बाद का पूरा समय महिला विधायकों के लिये अरक्षित किया गया है।
  • विदित है कि 19 सितंबर से उत्तर प्रदेश विधानसभा का पांच दिवसीय मानसून सत्र आरंभ हुआ।
  • उल्लेखनीय है कि वर्तमान में उत्तर प्रदेश विधानसभा के कुल सदस्यों (403) में महिला विधायकों की संख्या केवल 47 है। इनमें से 22 महिलाएँ पहली बार सदन के लिये चुनी गई हैं।
  • इस पहल को उत्तर प्रदेश विधानसभा की व्यवस्था में शामिल किया जाएगा और प्रत्येक सत्र में एक दिन महिला सदस्यों के बोलने के लिये आरक्षित किया जाएगा।

उद्देश्य

  • महिलाओं को संबोधन के लिये एक अनुरूप वातावरण उपलब्ध करना
  • सदन में महिला तथा पुरुष सदस्यों के मध्य तालमेल विकसित करना 
  • सदन में महिलाओं की भागीदारी सुनिश्चित करना 
  • महिला सशक्तिकरण 
  • महिलाओ से संबंधित समस्याओं को रेखाकित करते हुए उनके समाधान के वांछनीय उपायों को प्रोत्साहित करना
  • सदन के बेहतर कामकाज में सहयोग करना।

अन्य प्रयास 

  • इससे पूर्व उत्तर प्रदेश विधानसभा अध्यक्ष ने एक सामान पेशेवर डिग्री धारक विधायकों के समूहों से बातचीत की थी। इसका प्रमुख उद्देश्य व्यक्ति की विशेषज्ञता को प्राथमिकता प्रदान करना है।
  • उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा राज्य में महिलाओं को जागरूक करने और उन्हें उनके अधिकारों से अवगत करने के लिये मिशन शक्ति का आयोजन किया जा रहा है। 

स्पर्श पहल

चर्चा में क्यों

रक्षा लेखा विभाग (DAD) ने बैंक ऑफ बड़ौदा तथा एच.डी.एफ.सी. बैंक के साथ एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किये हैं ताकि स्पर्श पहल के तहत इनको सेवा केंद्रों के रूप में शामिल किया जा सके। 

स्पर्श पहल (SPARSH Initiative)

  • स्पर्श (System for Pension Administration (Raksha) : SPARSH) रक्षा मंत्रालय की एक पहल है। यह रक्षा पेंशन की मंज़ूरी एवं वितरण के स्वचालन के लिये एक एकीकृत प्रणाली है।
  • यह पेंशन दावों को संसाधित करने और बिना किसी बाह्य मध्यस्थ के सीधे रक्षा पेंशनभोगियों के बैंक खातों में पेंशन जमा करने के लिये एक वेब-आधारित प्रणाली है। 
  • डिजिटल इंडिया पहल को गति प्रदान करते हुए स्पर्श ने वित्तीय वर्ष 2021-22 में 11,600 करोड़ रुपए से अधिक का वितरण किया है, जो वित्त वर्ष 2020-21 में केवल 57 करोड़ रुपए था। 
  • स्पर्श पर पेंशनभोगियों की कुल संख्या 11 लाख लाभार्थियों के साथ एक मिलियन का आँकड़ा पार कर गई है, जो भारत में कुल रक्षा पेंशनभोगियों का लगभग 33% है।

समझौते से लाभ

  • यह समझौता स्पर्श में लॉगऑन करने के लिये तकनीकी साधन की अनुपलब्धता वाले दूरदराज़ के क्षेत्रों में रह रहे पेंशनभोगियों को सुविधा प्रदान करेगा।
  • ये सेवा केंद्र स्पर्श के लिये पेंशनभोगियों हेतु एक इंटरफेस के रूप में कार्य करेंगे।
  • इसके तहत ग्राम स्तरीय उद्यमी (VLE) भी रक्षा पेंशनरों की सहायता करेंगे। पेंशनभोगियों को सेवा केंद्रों तक नि:शुल्क पहुँच प्रदान की जाएगी तथा नाममात्र का सेवा शुल्क विभाग द्वारा ही वहन किया जाएगा।

CONNECT WITH US!

X