New
UPSC GS Foundation (Prelims + Mains) Batch | Starting from : 8 April 2024 | Call: 9555124124

पेट्रोनेट-एलएनजी और कतरएनर्जी के मध्य LNG आपूर्ति पर अनुबंध

प्रारंभिक परीक्षा- समसामयिकी, पेट्रोनेट-एलएनजी
मुख्य परीक्षा- सामान्य अध्ययन, पेपर- 2 और 3

संदर्भ-

6 फ़रवरी, 2024 को भारत और कतर ने वर्ष, 1999 के LNG अनुबंध को 20 सालों के लिए नवीनीकृत कर दिया है।

LNG

मुख्य बिंदु-

  • इसके तहत पेट्रोनेट-एलएनजी और कतरएनर्जी ने समझौते पर हस्ताक्षर किए।
  • कतरएनर्जी द्वारा पेट्रोनेट-एलएनजी को 7.5 मिलियन टन मिलियन टन प्रति वर्ष (MTPA) LNG की आपूर्ति की जाएगी।
  • यह समझौता गोवा में मनाए जा रहे ‘भारत ऊर्जा सप्ताह 2024 के पहले दिन किया गया।
  • नए समझौते के तहत LNG आपूर्ति वर्ष 2028 से शुरू होकर वर्ष 2048 तक की जाएगी।
  • वर्ष, 1999 के समझौते की तरह इस समझौते में भी LNG वॉल्यूम पुनर्गैसीकरण के बाद गेल (इंडिया) लिमिटेड (60%), इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लिमिटेड (30%) और भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (10%) में वितरित किया जाएगा
  • वर्ष, 1999 का अनुबंध रासगैस के साथ किया गया था।
  • इस 25-वर्षीय अनुबंध के तहत आपूर्ति वर्ष 2004 में शुरू हुई।
  • यह वर्ष 2028 में समाप्त हो जाएगा।
  • रासगैस का अब कतर एनर्जी में विलय हो गया है।

भारत की गैस के आयात पर निर्भरता-

  • भारत ने वित्तीय वर्ष 2022-23 में कुल 19.85 मिलियन टन LNG का आयात किया।
  • इसमें कतर से आयात का हिस्सा 10.74 मिलियन टन या 54% था। 
  • कतर भारत को 7.5 एमटीपीए एलएनजी मौजूदा ब्रेंट मूल्य के 12.67 प्रतिशत और 0.52 डॉलर प्रति MBTU (मिलियन ब्रिटिश थर्मल यूनिट) के इंडेक्सेशन पर बेचता है। 
  • संशोधित समझौते के अंतर्गत शुल्क को समाप्त कर दिया गया है।
  • विस्तारित अवधि में ब्रेंट क्रूड की मौजूदा 80 डालर प्रति बैरल दर को आधार मानते हुए भारत को 6 अरब डॉलर की अनुमानित बचत होगी।

शिपिंग लागत पर प्रभाव-

  • संशोधित शर्तें शिपिंग लागत को भी कम करेंगी।
  • भारत और क़तर के बीच यह समझौता ‘एक्स शिप बेसिस’ (DES) पर हुआ है। 
  • वर्ष, 1999 का समझौता ‘फ़्री ऑन बोर्ड’ (FOB) के आधार पर हुआ थाय़  

DES में शिपिंग की व्यवस्था विक्रेता द्वारा की जाती है, जबकि FOB में इसकी व्यवस्था खरीदार द्वारा की जाती है।

  • पेट्रोनेट द्वारा निर्धारित पोर्ट पर गैस की आपूर्त का लागत कतरएनर्जी उठाएगा। 
  • नवीनीकृत अनुबंध में अनुकूल शर्तें वैश्विक ऊर्जा मांग वृद्धि की धुरी के रूप में भारत की बढ़ती ताकत का संकेत देती है।

महत्व-

  • भारत वर्ष, 2030 तक ऊर्जा के मांग में गैस की हिस्सेदारी 6% से बढ़ाकर 15% करके गैस आधारित अर्थव्यवस्था में परिवर्तित होने की अकांक्षा रखता है। 
  • भारत अपनी गैस आवश्यकताओं का लगभग 40% आयात से पूरा करता है।
  • कतर दुनिया का सबसे बड़ा LNG निर्यातक है।
  • यह समझौता वर्तमान में भारत के LNG आयात का लगभग 35% है।
  • इस समझौते से उर्वरक, शहरों में गैस वितरण, रिफाइनरियों और बिजली उत्पादन जैसे प्रमुख उपभोक्ता क्षेत्रों को पुनर्गैसीकृत LNG की निरंतर आपूर्ति सुनिश्चित होगी।
  • प्राकृतिक गैस को डीजल और पेट्रोल जैसे पारंपरिक पेट्रोलियम ईंधन की अपेक्षा अधिक स्वच्छ विकल्प के रूप में देखा जाता है।
  • यह सामान्यतः क्रूड ऑयल की तुलना में सस्ता भी होता है। 
  • भारत की क्रूड ऑयल के मामले में आयात निर्भरता 85 प्रतिशत से अधिक है।
  • प्राकृतिक गैस को अधिक किफायती होने के साथ-साथ देश के ऊर्जा संक्रमण मार्ग में एक संक्रमण ईंधन के रूप में देखा जा रहा है।

पेट्रोनेट एलएनजी लिमिटेड (PLL)

  • इसका गठन 2 अप्रैल, 1998 को संयुक्त उद्यम कंपनी (JVC) के रूप में हुआ था।
  • एक स्वतंत्र बोर्ड ने LNG के आयात, भंडारण और पुनर्गैसीकरण के लिए सुविधाओं के विकास के लिए इसका गठन किया।
  • इसमें निम्नलिखित कंपनियों की भागीदारी है-
    • ऑयल एंड नेचुरल गैस कॉर्पोरेशन (ONGC)
    • इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लिमिटेड (IOCL) 
    • गेल (इंडिया) लिमिटेड (GAIL)
    • भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (BPCL)
  • गुजरात के दाहेज में PLL का टर्मिनल है।
  • यहाँ पर जहाज़ से गैस आती है और फिर उसको अलग-अलग पेट्रोलियम कंपनियों में बांटा जाता है।

प्रारंभिक परीक्षा के लिए प्रश्न-

प्रश्न- पेट्रोनेट एलएनजी लिमिटेड में निम्नलिखित में से किस/किन कंपनी/कंपनियों की भागीदारी है?

  1. ऑयल एंड नेचुरल गैस कॉर्पोरेशन 
  2. इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लिमिटेड 
  3. गेल (इंडिया) लिमिटेड 
  4. भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड 

नीचे दिए गए कूट की सहायता से सही उत्तर का चयन कीजिए।

(a) केवल 1

(b) केवल 1 और 2

(c) केवल 1, 2 और 3

(d) 1, 2, 3 और 4

उत्तर- (d)

मुख्य परीक्षा के लिए प्रश्न-

प्रश्न-  भारत वर्ष, 2030 तक ऊर्जा के मांग में गैस की हिस्सेदारी 6% से बढ़ाकर 15% करके गैस आधारित अर्थव्यवस्था में परिवर्तित होने की अकांक्षा रखता है, जबकि भारत अपनी गैस आवश्यकता का अधिकांश आयात करता है।  कतर द्वारा वर्ष,1999 के गैस अनुबंध को 20 सालों के लिए नवीनीकृत करना इसमें किस प्रकार योगदान दे सकता है? विवेचना कीजिए।

Have any Query?

Our support team will be happy to assist you!

OR