• Sanskriti IAS - अखिल मूर्ति के निर्देशन में

इंटीग्रेटेड गवर्नमेंट ऑनलाइन ट्रेनिंग (i-GOT)

  • 14th April, 2020

(सामान्य अध्ययन प्रश्न पत्र-3 : विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी)

संदर्भ

इंटीग्रेटेड गवर्नमेंट आनलाइन ट्रेनिंग (i-GOT) एक ऑनलाइन लर्निंग प्लेटफार्म है जिसे कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग द्वारा अग्रिम पंक्ति के सभी कार्यकर्ताओं के प्रशिक्षण के लिये लॉन्च किया गया है। महामारी के अगले चरणों में बढ़ने वाले संक्रमित मामलों से निपटने के लिये एवं मौजूदा अग्रिम पंक्ति में तैनात लोगों की जगह लेने के लिये एक बड़े मानव संसाधन की आवश्यकता होगी और यह प्रशिक्षण उन्हें महामारी के आगे के चरणों के लिये तैयार करेगा।

  • इस ऑनलाइन प्रशिक्षण (i-GOT) पोर्टल की शुरुआत मानव संसाधन विकास मंत्रालय के दीक्षा प्लेटफार्म पर की गई है।
  • यह प्लेटफार्म प्रत्येक लर्नर को उसके कार्यस्थल या घर पर और उसकी पसंद के किसी भी डिवाइस को विशिष्ट कंटेंट प्रदान करता है।

उद्देश्य

  • इसका उद्देश्य अग्रिम पंक्ति में तैनात कार्यकर्ताओं की प्रशिक्षण द्वारा क्षमताओं को बढ़ाना है।
  • अग्रिम पंक्ति में तैनात लोगों की जगह लेने के लिए एक बड़े मानव संसाधन को महामारी के आगे के चरणों के लिए तैयार करना है।

किसे दिया जाएगा प्रशिक्षण?

यह प्रशिक्षण कार्यक्रम विशेष रूप से चिकित्सकों, नर्सों, अर्धचिकित्सा कर्मियों, तकनीशियनों, सहायक नर्सिंग मिडवाइव्स (ए.एन.एम.), राज्य सरकार के अधिकारियों, नागरिक सुरक्षा अधिकारियों, विभिन्न पुलिस संगठनों, राष्ट्रीय कैडेट कोर (एन.सी.सी.), नेहरू युवा केंद्र संगठन, राष्ट्रीय सेवा योजना, भारतीय रेड क्रॉस सोसाइटी, भारत स्काउट और गाइड तथा स्वेच्छा से काम करने के इच्छुक अन्य लोगों के लिए शुरु किया गया है।

i-GOT पाठ्यक्रम

  • कोविड के बेसिक्स
  • आई.सी.यू. केयर एवं वेंटिलेशन प्रबंधन
  • क्लीनिकल प्रबंधन
  • पी.पी.ई. के जरिये संक्रमण रोकथाम,
  • संक्रमण नियंत्रण एवं बचाव
  • क्वारांटाइन एवं आइसोलेशन
  • प्रयोगशाला नमूना संग्रहण एवं परीक्षण
  • कोविड-19 मामलों का प्रबंधन
  • कोविड-19 प्रशिक्षण

i-GOT: लाभ

  • कोविड कार्यकर्ता वास्तविक समय में अपडेट रहने के द्वारा इस वन-स्टेप सोर्स से गहन क्षेत्रों के बारे में सीख सकते हैं और विद्यमान तथा उभरती स्थितियों से निपट सकते हैं।
  • यह प्लेटफार्म किसी भी जगह, किसी भी समय लर्निंग की असीमित मांग को पूरा करने में सक्षम है।
  • इस प्लेटफार्म को डेस्कटॉप एवं मोबाइल वर्जनों के लिए एक आसान यूज़र मैनुअल का अनुसरण करने के द्वारा एक्सेस किया जा सकता है जिससे कि यह सभी के लिए सुविधाजनक बन जाता है।

दीक्षा पोर्टल

  • केन्द्रीय मानव संसाधन और विकास मंत्रालय (एम.एच.आर.डी.) ने 5 सितम्बर 2017 को शिक्षकों के लिए राष्ट्रीय डिजिटल माध्यम दीक्षा पोर्टल (diksha.gov.in) की शुरुआत की।
  • राज्यों, सरकारी निकायों और निजी संगठन लक्ष्यों, जरूरतों और क्षमताओं के आधार पर अपने संबंधित शिक्षक पहल में दीक्षा को एकीकृत कर सकते हैं।

दीक्षा पोर्टल से संबंधित मुख्य तथ्य

  • दीक्षा पोर्टल का उपयोग शिक्षक प्रोफ़ाइल, समाचार और घोषणा, इन-क्लास संसाधन, शिक्षक समुदाय, आकलन, शिक्षक प्रशिक्षण सामग्री के लिए किया जा सकता है।
  • इस पोर्टल पर शिक्षकों को ऑफलाइन और ऑनलाइन दोनों तरीकों से प्रशिक्षण प्राप्त होता है।
  • इस पोर्टल के जरिये मानव संसाधन विकास मंत्रालय शिक्षकों को नई और आधुनिक प्रौद्योगिकियाँ प्रदान करता है।
  • यह पोर्टल शिक्षकों को स्वयं निर्देशित करने में मदद करेगा, क्योंकि वे टीचर एजुकेशन इंस्टिट्यूट (टीईआई) में शामिल हैं।
  • इस पोर्टल के माध्यम से शिक्षक गुणवत्ता वाली सामग्री प्राप्त कर सकते हैं और सामग्री को कई लोगों में बांटा जा सकता है और यह मल्टी चैनल है, इस पोर्टल पर पी.सी., मोबाइल फोन, टैबलेट आदि जैसे विभिन्न प्रारूपों द्वारा पहुँचा जा सकता है।
  • शिक्षक अपने घर पर मुफ्त पाठ्यक्रम ऑनलाइन सीख सकते हैं।

    Source: PIB

    CONNECT WITH US!

    X