New
UPSC Prelims 2024 Answer Key with Detailed Solution

कोडवा समुदाय

प्रतिवर्ष लगभग 300 कोडवा परिवार हॉकी, परंपरा और खेल कौशल के उत्सव के लिए कर्नाटक के कोडागु में इकट्ठा होते हैं।

कोडवा समुदाय के बारे में 

  • कोडवा समुदाय कर्नाटक के कोडगु के मूल निवासियों में से एक हैं। यह  समुदाय एक अल्पसंख्यक समुदाय है
  • वे स्वदेशी भूमि-स्वामी समुदाय होने के साथ ही शिकारियों एवं योद्धाओं की प्राचीन मार्शल परंपरा का भी प्रतिनिधित्व करते हैं।
  • कोडवा सांस्कृतिक परंपराएँ और प्रथाएँ पीढ़ी-दर-पीढ़ी मौखिक रूप से प्रसारित होती रहीं। 
    • कोडवा समुदाय ने अपनी अनूठी संस्कृति को बरकरार रखा है। 

भाषा 

  • कोडवाओं की भाषा कोडवा थक्क है जिसे भाषाविदों द्वारा एक स्वतंत्र द्रविड़ भाषा के रूप में स्थापित किया गया है। 
    • इसकी अपनी कोई लिपि नहीं है। यह कन्नड़ लिपि में लिखी जाती है।

वंश परंपरा 

  • प्रत्येक कोडवा एक बहिर्विवाही पितृवंशीय ओक्का (कबीले) का सदस्य है। 
    • जिनमें से प्रत्येक एक समान पूर्वज करणवा से संबंधित होने का दावा करता है। 
  • ओक्का के प्रत्येक सदस्य की पहचान उसके माने पेड़ा (घर का नाम या ओक्का का नाम) से होती है।

प्रकृति पूजा

  • कोडवा मुख्य रूप से पूर्वज और प्रकृति पूजक हैं। ओक्का के पहले पूर्वज या संस्थापक करणवा को भगवान के रूप में पूजा जाता है। 
  • कोडवा अपने पूर्वजों को अपनी मार्गदर्शक आत्मा और अपने बुजुर्गों को अपना जीवित मार्गदर्शक मानते हैं।
  • कोडवा प्रकृति के तत्वों सूर्य, अग्नि और जल की पूजा करते हैं। 
  •  ये आदिम वन मंदिरों में शिकार के देवता अयप्पा की भी पूजा करते हैं। 
  • कोडवाओं द्वारा प्रकृति पूजा का एक प्रमुख उदाहरण उनका देवकाड (पवित्र उपवन) है।
  • कालांतर में कोडवाओं को उनकी मार्शल परंपराओं के कारण क्षत्रिय के रूप में हिंदू धर्म में समाहित कर लिया गया। 

वेशभूषा

  • कोडवा महिलाओं द्वारा पहने जाने वाले पारंपरिक आभूषण विशिष्ट हैं और प्रकृति से प्रेरित होते हैं। 
    • इसमें मुख्य रूप से रिपुस वर्क का उपयोग किया जाता है जहाँ थोड़ी मात्रा में सोने को पीटकर पतले शीट में परिवर्तित कर वांछित पैटर्न में ढाला जाता है। 
  • कोडवा पुरुष कुप्या (लंबा काला या सफेद लपेटने वाला अंगरखा) पोषक धारण करते हैं  है। 
    • जिसमें लाल सोने वाले रेशम से कढ़ाई की जाती है।
  • अतीत में कुप्या अलग-अलग रंगों का होता था, इसकी सिलाई कोडवा महिलाओं द्वारा की जाती थी जो कढ़ाई में अपने कौशल के लिए प्रसिद्ध थीं। 
    • वर्तमान में पुरुष काले रंग की कुप्या पहनते हैं।

विरासत के रूप में हॉकी 

  • कोडवा हॉकी महोत्सव इस समुदाय की विरासत का केंद्र है।
  • यह कोडवाओं के लिए केवल एक खेल नहीं बल्कि उनकी एकता का प्रतीक है।
  •  यह उत्सव एक सेवानिवृत्त बैंकर पंडंडा कुट्टप्पा के दिमाग की उपज था, जिन्होंने इसे कोडवा समुदाय में विद्यमान वैमनस्य को कम करने के एक तरीके के रूप में देखा।
Have any Query?

Our support team will be happy to assist you!

OR