• Sanskriti IAS - अखिल मूर्ति के निर्देशन में

चित्र एक्रिलोज़ौर्बसिक्रेशन सॉलिडिफिकेशन सिस्टम

  • 10th April, 2020

(प्रारम्भिक परीक्षा एवं मुख्य परीक्षा ; सामान्य अध्ययन पेपर 3 : विषय – विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी में भारतीयों की उपलब्धियाँ, देशज रूप से प्रौद्यिगिकी का विकास और नईप्रौ द्योगिकी का विकास)

श्री चित्र तिरुनल इंस्टीट्यूट फॉर मेडिकल साइंसेज एंड टेक्नोलॉजी (SCTIMST)के वैज्ञानिकों ने संक्रमित श्वसन स्रावों के सुरक्षित प्रबंधन एवं निपटान के लिये एक अत्यधिक कुशल सुपर ऐब्सोर्बेंट सामग्री के डिज़ाइन को हाल ही में विकसित किया। यह संस्थान भारत सरकार के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग (DST) के तहत एक स्वायत्तशासी संस्थान है।

चित्र एक्रिलोज़ौर्बसेक्रेशन सॉलिडिफिकेशन सिस्टम (ChitraAcrylosorb Secretion Solidification System) :

  • यह श्वसन और शरीर के अन्य द्रवोंको जमाने और कीटाणुशोधन (solidification and disinfection) के लिये एक अत्यधिक कुशल सुपर ऐब्सोर्बेंट सामग्री है।
  • एक्रिलोज़ौर्ब (AcryloSorb) शुष्क अवस्था में अपने वजन की तुलना में कम से कम 20 गुना अधिक तरल पदार्थ को अवशोषित कर सकता है और इसमें कीटाणुओं को उसी स्थान पर नष्ट करने के लिये विसंदूषक या कीटाणुनाशक (Decontaminant) भी होता है।
  • इस सामग्री से भरे कंटेनर दूषित तरल पदार्थ को जेल की तरहजमा कर (Solidify like jell)गतिहीन कर देते हैं।इस प्रकार दूषित तरल पदार्थ को फैलने से रोककरउन्हें कीटाणुरहितकर देते हैं।
  • ठोस अपशिष्ट युक्त कनस्तर को बाद में बायोमेडिकल कचरे के तरह ही जलाकर नष्ट (Incineration)किया जा सकता है।

क्रिया-विधि ?

  • नई विकसित प्रणाली के द्वारासक्शन कनस्तर (Suction canisters) तथाथूकने के लिये डिस्पोज़ेबल बैग (Disposable spit bags) को एक्रिलोसोर्ब तकनीक के द्वारा डिज़ाइन किया गया है।
  • एक्रिलोज़ौर्बसक्शन कनस्तर, आईसीयू में भर्ती रोगियों के तरल श्वसन स्रावों को इकट्ठा करता है।
  • कंटेनर सामान्यतः स्पिल-प्रूफ (Spill-proof) होते हैं और उपयोग के बाद इन्हें बंद किया जा सकता है।

एक्रिलोज़ौर्ब का महत्त्व :

  • कई प्रकार की संक्रामक स्थितियों में रोगियों के संक्रमित स्त्रावों का त्वरित निपटान बेहद महत्वपूर्ण होता है।
  • इन संक्रमित स्त्रावों का निपटान प्रत्येक अस्पताल के लिये एक बड़ी चुनौती होता है विशेषकर COVID-19 जैसे उच्च संक्रामक रोगों के मरीजों के स्त्रावों के निपटान के मामले में।
  • श्वसन सम्बन्धी संक्रमण वाले मरीजों के बलगम और लार को जमाने के लिये डिस्पोजेबल थूक के थैलोंका प्रयोग किया जा सकता है जिसे बाद में जला के नष्ट किया जा सकता है।
  • इस प्रकार यह अस्पताल के कर्मचारियों के लिये सम्भावित खतरे को कम करता है क्योंकि कनस्तरों आदि के पुनः उपयोग के लिये उन्हें कीटाणुरहित और साफ करना ज़रूरी होता है और इसके लियेअस्पताल में कर्मियों की आवश्यकता होती है।

(स्रोत : पी.आई.बी)

CONNECT WITH US!

X