New

भारत- ऑस्ट्रेलिया 2+2 मंत्रिस्तरीय वार्ता

प्रारंभिक परीक्षा- समसामयिकी
मुख्य परीक्षा- सामान्य अध्ययन, पेपर-2

संदर्भ-

  • 20 नवंबर,2023 को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने दूसरे भारत-ऑस्ट्रेलिया 2+2 मंत्रिस्तरीय वार्ता के संदर्भ में ऑस्ट्रेलियाई उपप्रधान मंत्री और रक्षा मंत्री रिचर्ड मार्ल्स और विदेश मंत्री पेनी वोंग से मुलाकात की।

 ministerial-talks

मुख्य बिंदु-

  • दोनों देशों के मंत्रियों ने भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच संबंधों को मजबूत करने में संयुक्त अभ्यास, आदान-प्रदान और संस्थागत संवाद का उदाहरण देते हुए बढ़ते सैन्य-से-सैन्य सहयोग पर संतोष व्यक्त किया। 
  • राजनाथ सिंह ने अगस्त,2023 में ऑस्ट्रेलिया द्वारा बहुपक्षीय अभ्यास 'मालाबार' के सफल क्रियान्वयन पर मार्ल्स को बधाई दी।
  • दोनों पक्षों ने हाइड्रोग्राफी सहयोग और हवा से हवा में ईंधन भरने की व्यवस्था पर सफल बातचीत के साथ सूचना आदान-प्रदान और समुद्री डोमेन जागरूकता में सहयोग बढ़ाने की आवश्यकता पर बल दिया। 
  • राजनाथ सिंह ने सुरक्षा चुनौतियों से निपटने के लिए एक सक्रिय दृष्टिकोण पर बल देते हुए कृत्रिम बुद्धिमत्ता, पनडुब्बी रोधी और ड्रोन रोधी युद्ध तथा साइबर डोमेन सहित विशेष प्रशिक्षण क्षेत्रों में सहयोग के महत्व को स्पष्ट किया।
  • मंत्रियों ने रक्षा उद्योग और अनुसंधान में सहयोग को बढ़ावा देने, जहाज निर्माण, जहाज की मरम्मत, विमान रखरखाव, मरम्मत और ओवरहाल (एमआरओ) के साथ संभावित सहयोगी क्षेत्रों के रूप में पानी के नीचे प्रौद्योगिकियों में संयुक्त अनुसंधान पर चर्चा की। 
  • उभरते सुरक्षा परिदृश्य में चुनौतियों से संयुक्त रूप से निपटने पर ध्यान देने के साथ, दोनों देशों के रक्षा स्टार्ट-अप के बीच सहयोग पर भी बातचीत हुई।
  • दोनों देशों के मंत्री इस बात पर सहमत हुए कि एक मजबूत भारत-ऑस्ट्रेलिया रक्षा साझेदारी न केवल दोनों देशों को पारस्परिक रूप से लाभान्वित करती है, बल्कि भारत-प्रशांत क्षेत्र की समग्र सुरक्षा में भी महत्वपूर्ण योगदान देती है।

प्रारंभिक परीक्षा के लिए प्रश्न-

प्रश्न- हाल ही में भारत और ऑस्ट्रेलिया के मध्य सम्पन्न 2+2 मंत्रिस्तरीय वार्ता में किसने भाग नहीं लिया?

  1. रिचर्ड मार्ल्स 
  2. पेनी वोंग
  3. राजनाथ सिंह
  4. अमित शाह

उत्तर- (d)

मुख्य परीक्षा के लिए प्रश्न-

प्रश्न- एक मजबूत भारत-ऑस्ट्रेलिया रक्षा साझेदारी न केवल दोनों देशों को पारस्परिक रूप से लाभान्वित करती है, बल्कि भारत-प्रशांत क्षेत्र की समग्र सुरक्षा में भी महत्वपूर्ण योगदान देती है। मूल्यांकन कीजिए।

स्रोत- dd news

Have any Query?

Our support team will be happy to assist you!

OR